ताज़ा खबर
 

आरोपी मुकेश के बयान के ख़िलाफ़ ‘निर्भया’ के परिजन करेंगे क़ानूनी कार्रवाई

दिल्ली में चलती बस में सामूहिक दरिंदगी का शिकार हुई ‘निर्भया’ के परिजन ने इस मामले में दोषी ठहराये गये मुजरिम मुकेश सिंह द्वारा वारदात के लिये लड़की को ही जिम्मेदार बताने वाले बयान की कड़ी निन्दा करते हुए उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की बात कही है। लड़की की मां ने आज ‘भाषा’ को टेलीफोन […]

Author March 3, 2015 5:12 PM
सरकार ने गुरुवार को कहा कि वह बीबीसी के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने के विकल्पों पर विचार कर रही है।

दिल्ली में चलती बस में सामूहिक दरिंदगी का शिकार हुई ‘निर्भया’ के परिजन ने इस मामले में दोषी ठहराये गये मुजरिम मुकेश सिंह द्वारा वारदात के लिये लड़की को ही जिम्मेदार बताने वाले बयान की कड़ी निन्दा करते हुए उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की बात कही है।

लड़की की मां ने आज ‘भाषा’ को टेलीफोन पर बताया कि उनकी बेटी के गुनहगार मुकेश का बयान बेहद शर्मनाक और कानून का मजाक उड़ाने वाला है। यह कानूनी प्रक्रिया के लचीलेपन का नतीजा है कि जेल में बंद होने के बाद भी मुजरिम अपनी घिनौनी हरकत को उचित ठहराने की कोशिश कर रहा है।

उन्होंने कहा कि अगर आरोपियों को मिली सजा पर जल्द अमल हो जाता तो मुकेश ऐसी बात कहने की हिम्मत नहीं कर पाता। साथ ही, लड़कियों तथा महिलाओं से होने वाली खौफनाक घटनाओं पर भी रोक लगाने में मदद मिलती।

लड़की के भाई ने भी इस बयान की कड़ी निन्दा करते हुए कहा कि परिवार मुकेश के इस बयान के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेगा।

उन्होंने मीडिया पर भी दोषी व्यक्ति के बयान को तरजीह देकर उसे महिमामंडित करने का आरोप लगाया। कहा कि जिस तरह से मीडिया ने उस बयान को दिखाया, वह निन्दनीय है।

मालूम हो कि 16 दिसम्बर 2012 को दिल्ली के वसंत विहार में चलती बस में सामूहिक दरिंदगी की शिकार लड़की की मौत के मामले में फांसी की सजा पाये मुकेश ने मीडिया को दिये गये साक्षात्कार में दिल्ली बलात्कार कांड के लिये ‘निर्भया’ को ही दोषी ठहराया है।

मुकेश ने कहा था कि अगर लड़की और उसका दोस्त इतना विरोध ना करते तो उन्हें इतनी बुरी तरह ना मारा जाता। बलात्कार के वक्त लड़की को उसका विरोध नहीं करना चाहिये था, तब उसकी जान बख्श दी जाती।

मुकेश ने खुद को मिली फांसी की सजा के खिलाफ उच्चतम न्यायालय में अपील दाखिल की है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App