आर्मी की बदौलत आईआईटी में पढ़ने जाएंगे नौ कश्मीरी लड़के-लड़कियां - Nine Kashmiri Youth will Join IIT with the help of Indian Army, Army Chief Bipin Rawat Congratulated them - Jansatta
ताज़ा खबर
 

आर्मी की बदौलत आईआईटी में पढ़ने जाएंगे नौ कश्मीरी लड़के-लड़कियां

भारतीय सेना पिछले तीन सालों से सुपर-40 के बच्चों को देश की अति-प्रतिष्ठित आईआईटी में प्रवेश की तैयारी करा रही है।

इंडियन आर्मी के सुपर-40 के छात्रों से मिलते सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत।

भारतीय सेना द्वारा  आईआईटी प्रवेश परीक्षा की तैयारी के लिए चलाए जा रहे सुपर-40 के नौ कश्मीरी छात्रों ने आईआईटी-जेईई (एडवांस्ड) परीक्षा पास की है। अब ये छात्र देश के सर्वाधिक प्रतिष्ठित इंजीनियरिंग कॉलेजों आईआईटी में प्रवेश ले सकते हैं। भारतीय सेना ने बिहार के सुपर-30 की तर्ज पर सुपर-40 बनाया था। भारतीय सेना पिछले तीन सालों से सुपर-40 के बच्चों को देश की अति-प्रतिष्ठित आईआईटी में प्रवेश की तैयारी करा रही है। भारतीय सेना पिछले कुछ समय से कश्मीर में आंतकवाद निरोधकों अभियानों और पत्थरबाजों से निपटने के तरीको को लेकर सुर्खियों में रही है।

इससे पहले भारतीय सेना के इस साल के सुपर-40 बैच में 26 स्थानीय लड़के और दो लड़कियों ने आईआईटी-जेईई (मेन्स) की परीक्षा पास की थी। आईआईटी-जेईई (मेन्स) निकालने वाले इन 28 छात्रों में से आईआईटी-जेईई (एंडवांस्ड) में सफलता हासिल की। सुपर-40 के पांच निजी कारणों से आईआईटी-जेईई (मेन्स) में शामिल नहीं हुए थे। सुपर-40 के कुल 35 में से 28 छात्रों के आईआईटी-जेईई (मेन्स) निकाला। सुपर-40 के 80 प्रतिशत छात्र आईआईटी-जेईई (मेन्स) निकालने में सफल रहे। इस साल के सुपर-40 की खास बात ये रही कि इस साल पांच लड़कियों ने इसमें शामिल हुई थीं जिनमें से दो ने आईआईटी-जेईई (मेन्स) पास किया।

आईआईटी के अलावा ये छात्र दिल्ली स्थित जामिया मिल्लिया इस्लामिया और जामिया हमदर्द विश्वविद्यालय में भी प्रवेश ले सकते हैं। भारतीय सेना द सेंटर फॉर सोशल रिस्पॉन्सिबिलिटी एंड लर्निंग (सीएसआरएल) और पेट्रोनेट एनएलजी के साथ मिलकर श्रीनगर में सुपर-40 की कोचिंग चलाती है। सुपर-40 का मकसद जम्मू-कश्मीर के प्रतिभाशाली और वंचित बच्चों की मदद करना है।

मंगलवार (13 जून) को भारतीय सेना प्रमुख बिपिन रावत ने सुपर-40 के छात्रों से मिलकर उन्हें बधाई दी। सुपर-40 प्रोजेक्ट की चीफ मैनेजर मीनाक्षी शाय ने टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया कि सुपर-40 के पहले बैच से कोई भी छात्र आईआईटी-जेईई में पास नहीं हो सका था। पिछले साल सुपर-40 के 30 छात्रों ने  आईआईटी-जेईई (मेन्स) परीक्षा दी थी जिनमें से 25 ने उसे पास किया था। पिछले साल आईआईटी-जेईई (मेन्स) पास करने वाले 25 कश्मीरी छात्रों में से सात ने आईआईटी-जेईई (एडवांस्ड) में सफलता हासिल की थी।

देश के 23 आईआईटी में प्रवेश के लिए छात्रों का चयन आईआईटी-जेईई प्रवेश परीक्षा द्वारा किया जाता है। आईआईटी के अलावा एनआईटी समेत कई अन्य संस्थानों में भी आईआईटी-जेईई के रैंक के आधार पर प्रवेश मिलता है।  रविवार (11 जून) को आए नतीजों में करीब 10 हजार छात्रों का अंतिम चयन हुआ। चंडीगढ़ के सर्वेश मेहतानी ने आईआईटी-जेईई प्रवेश परीक्षा में टॉप किया। पुणे के अक्षत चुग दूसरे स्थान पर रहे। तीसरे स्थान पर दिल्ली के अनन्य अग्रवाल रहे। लड़कियों में हैदराबाद की राम्या नारायणस्वामी मेरिट लिस्ट में 35वें स्थान के साथ सबसे अव्वल रहीं।

वीडियो- कश्मीर में पाकिस्तान या ISIS का झंडा लहराने वालों को सेना प्रमुख की चेतावनी

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App