NIA probe Abu Dhabi module recruited nine Indians for Islamic State sent some to Syria - NIA का खुलासा, अबू धाबी के संगठन की मदद से ISIS से जुड़े नौ भारतीय, कुछ को सीरिया भी भेजा - Jansatta
ताज़ा खबर
 

NIA का खुलासा, अबू धाबी के संगठन की मदद से ISIS से जुड़े नौ भारतीय, कुछ को सीरिया भी भेजा

तीन भारतीय लोगों ने देश के नौ युवाओं को आतंकी संगठन आईएसआईएस में शामिल होने के लिए सीरिया भेजा था।

आईएस के लिए कथित रूप से भर्ती करवाने वाला शफी अरमर।

Johnson T A। तीन भारतीय लोगों ने देश के नौ युवाओं को आतंकी संगठन आईएसआईएस में शामिल होने के लिए सीरिया भेजा था। यह जानकारी नेशनल सिक्योरिटी एजेंसी (NIA) द्वारा दी गई है। इंडियन एक्सप्रेस को जानकारी मिली है कि जिन तीन भारतीय युवकों ने ये भर्तियां करवाई वे अबू धाबी में रह रहे थे। वे तीनों वहां आईएस के लिए भर्ती करने वाले एक संगठन के लिए काम किया करते थे। जिन नौ लोगों की भर्ती करवाई गई और सीरिया भेजा गया उसमें आठ लोग तमिलनाडु और एक तेलंगाना का है। ऐसा NIA का मानना है।

कैसे मिली जानकारी ? जनवरी 2016 में अबू धाबी के उस संगठन का भांडाफोड़ हुआ था। उसके बाद भर्तियां करवाने में शामिल तीनों भारतीयों को यूएई से भारत लाया गया था। इसमें कर्नाटक के अदनान हुसैन, महाराष्ट्र के मोहम्मद फरहान और कश्मीर के शेख अजहर अल इस्लाम शामिल थे। ये तीनों यूएई में अलग-अलग काम करते थे और उसी दौरान आईएस के लिए भर्तियां करवाने लगे थे। तीनों को उनकी ऑनलाइन एक्टिविटी पर शक होने के बाद पकड़ा गया था।

NIA के रिकॉर्ड्स से पता लगा है कि नौ लोगों को भेजने की साजिश चेन्नई और देश के बाकी अलग-अलग हिस्सों में बने प्लान्स के बाद रची गई थी। इसमें पैसे एकत्रित करना, कैंप लगाना, भर्ती करना और सीरिय तक भेजने का पूरा प्लान शामिल था।

पिछले साल NIA द्वारा की गई छानबीन में ‘जुनैद उल खलीफा फिल हिंद’ नाम के संगठन का पता लगा था। उसको शफी अरमर नाम का शख्स ऑनलाइन और ऑफलाइन चलाता था। पकड़े जाने पर शफी ने बताया था कि मोहम्मद नफीस खान उर्फ फातिमा खान उर्फ अबु जरार उर्फ अकरम जो कि अपने आपको आईएस का नेता बताता था उसकी मदद से हैदराबाद के दो लड़के सीरिया गए थे। उनमें एक मुरादनगर और दूसरा गोलकुंडा का था। वे लोग टर्की और सिंगापुर से होते हुए सीरिया पहुंचे थे।

बाकी खबरों के लिए क्लिक करें 

देखिए संबंधित वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App