ताज़ा खबर
 

Zakir Naik: मलेशिया से भारत लाया जाएगा जाकिर नाईक? जानिए क्‍या है सच्‍चाई

Zakir Naik Latest News:जाकिर नाईक के वकील मुबिन सोल्कर ने भी मीडिया से बातचीत के दौरान कहा कि जाकिर नाईक को अभी भारत नहीं लाया जा रहा है। नाईक के भारत लाए जाने की खबरें आधारहीन हैं। सोल्कर ने कहा कि भारत सरकार ने नाईक को वापस लाने के लिए मलेशियाई सरकार से अपील जरूर की है, लेकिन अब तक इसमें सरकार को कोई खास सफलता नहीं मिली है।

विवादित धर्मगुरु जाकिर नाईक। (File Photo)

विवादित इस्लामिक प्रचारक जाकिर नाईक को भारत में भगोड़ा घोषित किया जा चुका है। नाईक अभी मलेशिया में पनाह लिये हुए है और भारत सरकार हर संभव प्रयास कर रही है उसे भारत में लाने के लिए। लेकिन इन सब के बीच बुधवार (4 जून) को अचानक मीडिया में यह खबरें आने लगीं कि जाकिर नाईक बुधवार की रात किसी भी वक्त भारत लाया जा सकता है। मीडिया में जो खबरें आई थीं उसमें कहा गया कि मलेशिया सरकार ने जाकिर नाईक को गिरफ्तार कर लिया है और उसे अब किसी भी वक्त भारत भेजा जा सकता है। लेकिन थोड़ी ही देर के बाद खुद नाईक और उसके वकील ने इन खबरों पर अपनी प्रतिक्रिया दी।

अभी भारत नहीं आऊंगा: मीडिया में आई खबरों के बाद जाकिर नाईक ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि वो अभी भारत नहीं आ रहा है। उसने कहा कि मेरे भारत आने के बारे में जो खबरें चलाई जा रही हैं वो पूरी तरह से गलत और आधारहीन हैं। जब तक भारत में मुझे निष्पक्ष सुनवाई का भरोसा नहीं हो जाता तब तक वापस भारत आने की मेरी कोई योजना नहीं है। जब मुझे यह महसूस होगा सरकार निष्पक्ष है तब मैं निश्चित रुप से अपनी गृहजमीन पर आऊंगा।

जाकिर के वकील ने यह कहा: जाकिर नाईक के वकील मुबिन सोल्कर ने भी मीडिया से बातचीत के दौरान कहा कि जाकिर नाईक को अभी भारत नहीं लाया जा रहा है। नाईक के भारत लाए जाने की खबरें आधारहीन हैं। सोल्कर ने कहा कि भारत सरकार ने नाईक को वापस लाने के लिए मलेशियाई सरकार से अपील जरूर की है, लेकिन अब तक इसमें सरकार को कोई खास सफलता नहीं मिली है।

NIA को नहीं है जानकारी: इससे पहले हालांकि एनआईए के प्रवक्ता आलोक मित्तल ने कहा कि हमें इस बारे में कोई सूचना नहीं है कि जाकिर नाईक को भारत लाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि ऐसी खबरों की अभी जांच की जा रही है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक भारत सरकार ने मलेशियाई सरकार से इस साल कतक जाकिर नाईक के प्रत्यर्पण की अपील की है। नाईक को भारत वापस लाने के लिए राजनयिक प्रयास भी किये जा रहे हैं।

2016 में नाईक ने छोड़ा देश: साल 2016 में नाईक उस वक्त भारत छोड़ कर भाग गया था जब पड़ोसी देश बांग्लादेश में कुछ आतंकवादियों ने दावा किया था कि वे नाईक के भाषण से काफी प्रभावित थे और उसके भाषणों को सुनकर ही उन्होंने जेहाद शुरू किया था। 2016 में भारत सरकार ने नाईक के एनजीओ को बैन कर दिया था। नाईक के पीस टीवी को भी भारत समेत कई देशों में बैन कर दिया गया है। नाईक पर गैरकानूनी गतिविधियां रोकथाम अधिनियम (UAPA) और भारतीय दंड विधान की धारा 20 (b), 153 (a), 295 (a), 298 and 505 (2) के तहत आरोप तय किए गए थे। NIA ने जाकिर पर देश में सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने का आरोप लगाया था

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App