ताज़ा खबर
 

NGT की वेबसाइट हैक: बैकग्राउंड में सुनाई दिया PAK राष्ट्रगान, बताया सर्जिकल स्ट्राइक का बदला

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (NGT) की वेबसाइट को हैकर्स ने सोमवार को हैक कर लिया। पीटीआई के मुताबिक वेबसाइट को हैकर ग्रुप “D4RK 4NG31” द्वारा हैक किया गया और इसे साइबर वार बताया गया।
Author नई दिल्ली | October 4, 2016 12:11 pm
नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल की वेबसाइट का स्क्रीनग्रैब

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (NGT) की वेबसाइट को हैकर्स ने सोमवार को हैक कर लिया। पीटीआई के मुताबिक वेबसाइट को हैकर ग्रुप “D4RK 4NG31” द्वारा हैक किया गया और इसे साइबर वार बताया गया। इस दौरान वेबसाइट के होमपेज के बैकग्राउंड में पाकिस्तानी राष्ट्रगान की धुन भी सुनाई दी। इससे आशंका जताई जा रही है कि वेबसाइट हैक किए जाने का काम इस देश के सदस्यों का हो सकता है। हैकर्स ने दावा कि यह साइबर वॉर कथित निर्दोष कश्मीरियों की हत्या के खिलाफ है। दावे में कहा गया कि यह भारत की ओर से किए गए सर्जिकल स्ट्राइक और सीजफायर वॉयलेशन का बदला है।

हैकर्स ने इस दौरान अपशब्दों से भरा एक पोस्ट भी वेबसाइट पर किया। जिसमें उन्होंने कहा, ‘वी आर अनबिटेबल। तुम कश्मीर में निर्दोष लोगों की हत्या करते हो और अपने आप को अपने देश का रक्षक बताते हो। तुम सीमा पर संघर्ष विराम का उल्लंघन करते हो और उसे सर्जिकल स्ट्राइक कहते हो। अब साइबर हमले की आग झेलो।’ यह साइबर अटैक सोमवार को करीब 7:15 पर हुआ। इस मामले में जब एनजीटी के चेयरपर्सन स्वतंत्र कुमार के ऑफिस फोन किया गया तो पता चला की वह बयान देने के लिए उपलब्ध नहीं थे। इससे पहले भी एनजीटी की वेबसाइट पर साइबर हमला हो चुका है। कहा जा रहा है कि इस हैकिंग से एनजीटी का डाटा खराब होने की भी संभावना है।

गौरतलब है कि उरी हमले के बाद से भारत और पाकिस्‍तान के रिश्‍ते ज्यादा बिगड़ गए हैं। इस हमले में सेना के 17 जवान शहीद हो गए थे बाद में तीन घायल जवानों ने भी दम तोड़ दिया था। इसके जवाब में भारतीय सेना की ओर से 28-29 सितंबर की रात को सर्जिकल स्‍ट्राइक किया गया। इसमें भारतीय सेना ने पीओके में आतंकियों के 7 ठिकानों को निशाना बनाया गया। साल 2013 के बाद दूसरी बार वेबसाइट हैक की गई है। अप्रैल 2012 में दिल्ली हाईकोर्ट बार एसोसिएशन की वेबसाइट को पाकिस्तानी हैकरों ने निशाना बनाया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.