ताज़ा खबर
 

15 मार्च, शाम 5 बजे न्यूज अपडेट: मणिपुर में पहली बार BJP सरकार, ICC चीफ शशांक मनोहर का इस्तीफा, यूपी सीएम के नाम पर भड़के राजनाथ

मणिपुर में भाजपा सरकार बनने से लेकर शशांक मनोहर के इस्तीफे तक, पढ़िए सभी बड़ी खबरें

शाम 5 बजे तक की सभी बड़ी खबरें यहां

मणिपुर में पहली बार BJP सरकार

मणिपुर में पहली बार भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनी है। बुधवार को एन बीरेन सिंह ने मणिपुर के सीएम पद की शपथ ली। उनके साथ 8 अन्य मंत्रियों ने भी मणिपुर राजभवन में हुए कार्यक्रम में शपथ ग्रहण की। हाल ही में हुए मणिपुर विधानसभा चुनावों में भाजपा को 60 में से 21, जबकि कांग्रेस की 28 सीटें आई थीं। हालांकि भाजपा को तीन छोटी पार्टियों और तीन विधायकों ने समर्थन देने का फैसला किया था। इसके बाद मंगलवार को राज्यपाल नजमा हेपतुल्लाह ने बीजेपी और सहयोगी दलों को सरकार बनाने का न्यौता दिया था। (विस्तार से पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)

ICC चीफ शशांक मनोहर का इस्तीफा

शशांक मनोहर ने इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (ICC) के चेयरमैन पद से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने इस्तीफा देने के पीछे निजी कारण बताए। शशांक मनोहर दो बार भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) के प्रेसिडेंट भी रह चुके हैं। वह 2008-11 के बीच पहली बार बीसीसीआई प्रेसिडेंट बने, फिर दूसरी बार अक्टूबर 2015 में बनाए गए। इसके बाद मई 2016 में उन्हें आईसीसी का चेयरमैन चुन लिया गया। इस पद पर उनका दो साल का कार्यकाल मई, 2018 में समाप्त होना था। शशांक मनोहर को सर्वसम्मति से चुना गया था। (विस्तार से पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)

यूपी सीएम बनने के सवाल पर भड़के राजनाथ

गृह मंत्री राजनाथ सिंह बुधवार को उस समय भड़क गए जब उनसे एक पत्रकार ने कहा कि उनका नाम यूपी में सीएम पद के लिए चर्चा में है। संसद परिसर में इस सवाल पर राजनाथ सिंह बाले कि ‘ये सब फालतू बात है, सब अनावश्यक है।’ यूपी के सीएम पद के लिए गृहमंत्री समेत, यूपी बीजेपी अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य, रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा, गोरखपुर से पार्टी सांसद योगी आदित्यनाथ समेत कई नेताओं के नामों पर कयास लगाया जा रहा है। (विस्तार से पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)

पंजाब में हुई थी ईवीएम से छेड़छाड़: केजरीवाल

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने आरोप लगाया कि पंजाब विधानसभा चुनावों में कांग्रेस की जीत ईवीएम छेड़छाड़ के कारण हुई। केजरीवाल ने कहा कि ईवीएम में गड़बड़ी की गई थी जिस कारण आम आदमी पार्टी के 20-25 प्रतिशत वोट अकाली-भाजपा गठबंधन को चले गए। उन्होंने कहा, “कई बूथों पर उनकी पार्टी को केवल दो, तीन या चार वोट ही मिले, जबकि वहां दर्जनों की संख्या में हमारे अपने कार्यकर्ता और परिजन भी थे।” केजरीवाल ने कहा कि अब गोवा-पंजाब समेत बाकी राज्यों के चुनावों को रद्द तो नहीं किया जा सकता लेकिन चुनाव आयोग को ईवीएम के प्रति भरोसा वापस लाने का काम जरूर करना चाहिए। (विस्तार से पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)

अन्य बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App