ताज़ा खबर
 

अर्णब-BARC के लीक चैट पर NBA हैरान! बोला- Repubic TV की IBF मेंबरशिप हो फौरन सस्पेंड

एनबीए ने कहा है कि Repubic TV की IBF मेंबरशिप को फौरन सस्पेंड किया जाना चाहिए।

arnab goswami, barc, nbaअर्णब गोस्वामी। फाइल फोटो। फोटो सोर्स – ट्विटर

रिपब्लिक टीवी के एडिटर अर्नब गोस्वामी और BARC के पूर्व सीईओ पार्थ दासगुप्ता की कथित वॉट्सऐप चैट लीक होने के बाद News Broadcast Association (NBA) ने हैरानी जताई है। एनबीए ने कहा है कि Repubic TV की IBF मेंबरशिप को फौरन सस्पेंड किया जाना चाहिए। NBA की तरफ से जो बयान जारी किया गया उसमें कहा गया है कि हम यह चाहते हैं कि रिपब्लिक टीवी के पास किसी भी तरह की रेटिंग नहीं होनी चाहिए और चैनल को बार्क में भी शामिल नहीं किया जाना चाहिए।

बयान में कहा गया है कि ‘रिपल्बिक टीवी के एडिटर अर्णब गोस्वामी और बार्क के पूर्व अधिकारी पार्थो दासगुप्ता के बीच सैकड़ों चैट को देखकर हैरान है। यह सभी चैट पढ़कर साफ होता है कि इन दोनों की मिलीभगत से रिपब्लिक टीवी की रेटिंग और Viwership को प्रभावित किया गया है। यह मैसेज सिर्फ इस गड़बड़झाले को ही नहीं दिखाते बल्कि इससे शक्ति के गलत इस्तेमाल का पता भी चलता है।’

आगे इसमें कहा गया है कि ‘NBA मांग करता है कि रिपब्लिक टीवी की IBF सदस्यता तुरंत खत्म कर दी जाए। एनबीए बोर्ड को यह भी लगता है कि इससे ब्रॉडकास्टिंग इंडस्ट्री की छवि को भी नुकसान पहुंचा है। इसलिए रिपब्लिक टीवी को BARC रेटिंग सिस्टम से फिलहाल बाहर कर दिया जाए।’

रजत शर्मा के नेतृत्व वाले एनबीए ने एक बयान में कहा कि यह देखना ‘‘निराशाजनक है कि बार्क के पूर्व सीईओ पार्थ दासगुप्ता और एआरजी आउटलियर मीडिया प्राइवेट लिमिटेड के प्रबंध निदेशक अर्नब गोस्वामी के बीच व्हाट्सएप पर सैकड़ों संदेशों का आदान-प्रदान हुआ।’’

एनबीए ने मांग की कि रिपब्लिक टीवी की इंडियन ब्राडकास्टिंग फाउंडेशन की सदस्यता तत्काल प्रभाव से निलंबित की जानी चाहिए, जब तक कि रेटिंग्स से छेड़छाड़ से जुड़ा मामला अदालत में लंबित है। बयान के मुताबिक एनबीए ने बार्क से कहा कि ऑडिट के दौरान रेटिंग की सच्चाई पर वह स्पष्ट बयान जारी करे और हिंदी समाचार क्षेत्र का भी ऑडिट कराए।

इसने रेटिंग एजेंसी से मांग की, ‘‘पथभ्रष्ट प्रसारक का डाटा हटाया जाए और शुरुआत से सभी समाचार चैनलों की रैकिंग की स्थिति जारी की जाए।’’इसने कहा कि प्रक्रिया में पारदर्शिता लाने और रेटिंग को सुरक्षित बनाने के लिए पिछले तीन महीने में उठाए गए ठोस कदमों के बारे में बार्क को जानकारी देनी चाहिए। इसने कहा कि बार्क द्वारा इस तरह की कार्रवाई का ब्यौरा संबंधित पक्षों के साथ साझा करने तक सभी समाचार चैनलों की रेटिंग स्थगित रहनी चाहिए।

अर्णब गोस्वामी के चैट्स सामने आने के बाद उन पर अपने चैनल को टीआरपी का फायदा पहुंचाने के लिए पत्रकारिता की नैतिकता को ताक पर रखने के आरोप लगने शुरू हो गए हैं। दासगुप्ता और गोस्वामी के बीच हुई बातचीत का यह खुलासा मुंबई पुलिस ने किया है। इसके बाद से रिपब्लिक भारत के एडिटर इन चीफ सवालों के घेरे में आ गए हैं। मुंबई पुलिस ने गत 24 दिसंबर को दासगुप्ता को गिरफ्तार किया। रिपब्लिक टीवी के अर्नब गोस्वामी से सीधे तौर पर जुड़ी करीब एक हजार पेज की व्हाट्सऐप चैट्स पिछले दो दिनों में सोशल मीडिया में वायरल हुई हैं।

 

Next Stories
1 बंगालः शुभेंदु अधिकारी के रोड शो में पथराव, हंगामा! TMC कार्यकर्ताओं पर आरोप
2 टि्वटर पर आशुतोष व रोहित सरदाना में गहमागहमी, बोले एंकर- ‘च्च च्च’ कर निकल लेते हैं बुद्धिजीवी
3 कम्युनिस्ट किसान आंदोलन से बाहर हो जाएं तो कल ही हो जाएगा समाधान, केंद्रीय मंत्री बोले- किसानों के मुद्दे तो हल हो चुके
ये पढ़ा क्या?
X