सरकार पर एंकर का तंज- पहले रायते को फैलने दिया, पानी नाक से ऊपर गया तो समेटने चले पर, समेट नहीं पा रहे

उन्होंने कहा, कोविड के संक्रमण वाले मरीज लगातार बढ़ रहे हैं और साथ ही उनकी मौतें भी बढ़ रही हैं। अस्पतालों में ऑक्सीजन नहीं है, बेड नहीं हैं, डॉक्टर नहीं है। श्मसान घाटों पर अंतिम संस्कार के लिए नंबर लगे हैं। वहां पर भी वेटिंग चल रही है।

Coronavirus, COVID-19कोरोना के बढ़ते केसों के बीच देशभर के अस्पतालों में पड़ गई है बेड्स की कमी। (प्रतीकात्मक तस्वीर)

सन 2019 के अंत में जब कोरोना वायरस का प्रकोप देश में शुरू हुआ था, तब यह उम्मीद की जा रही थी कि जल्दी ही इस पर नियंत्रण कर लिया जाएगा। इसके बाद वह बढ़ता गया और 2020 में यह भयंकर महामारी के तौर पर दुनिया में फैल गया। पूरी दुनिया में महीनों लॉकडाउन लगाया गया। कामकाज बंद किया गया। दुनियाभर में लाखों लोगों की मौत हो गई। कुछ नियंत्रण हुआ तो हम ढीले पड़ गए और नतीजा यह हुआ कि वह फिर तेजी पकड़ लिया।

टीवी चैनल न्यूज-24 पर इसको लेकर हुए डिबेट में एंकर संदीप चौधरी ने सरकार पर कड़ा तंज कसा। उन्होंने कहा, “पहले रायते को फैलने दिया, पानी नाक से ऊपर गया तो समेटने चले पर, समेट नहीं पा रहे हैं।” कहा कि सरकारें दावा कर रही है कि हमारे पास सुविधाएं हैं, लेकिन वे कहां है किसी को पता नहीं है। उन्होंने कहा, कोविड के संक्रमण वाले मरीज लगातार बढ़ रहे हैं और साथ ही उनकी मौतें भी बढ़ रही हैं। अस्पतालों में ऑक्सीजन नहीं है, बेड नहीं हैं, डॉक्टर नहीं है। श्मसान घाटों पर अंतिम संस्कार के लिए नंबर लगे हैं। वहां पर भी वेटिंग चल रही है।

दूसरी तरफ सरकार का दावा है कि भारत सबसे तेजी से कोविड-19 टीकों की 13 करोड़ खुराकें देने वाला देश बन गया है और स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, उसे ऐसा करने में महज 95 दिन का समय लगा। मंत्रालय ने बताया कि अमेरिका को कोविड-19 टीकों की 13 करोड़ खुराक देने में 101 दिन का समय लगा जबकि चीन ने इसके लिए 109 दिन लगाए। सुबह सात बजे तक के अनंतिम आंकड़ों के मुताबिक, देश में कोविड-19 टीके की कुल मिलाकर 13,01,19,310 खुराकें दी जा चुकी हैं जिनमें से 29,90,197 खुराकें पिछले 24 घंटे में दी गई।

इनमें से 92,01,728 स्वास्थ्य कर्मियों को टीके की पहली खुराक दी गई और 58,17,262 कर्मियों को दूसरी खुराक दी गई। इनमें अग्रिम मोर्चे पर काम करने वाले 1,15,62,535 कर्मी भी शामिल हैं जिन्हें पहली खुराक दी गई और 58,55,821 कर्मियों को दूसरी खुराक दी गई। इसके अलावा 60 वर्ष से अधिक उम्र के 4,73,55,942 लाभार्थियों को पहली खुराक और 53,04,679 को दूसरी खुराक दी गई।

वहीं, 45 से 60 साल के आयु वर्ग में 4,35, 25,687 लोगों को पहली खुराक और 14,95,656 को दूसरी खुराक दी गई। देश में अब तक दी गई खुराकों में से 59.25 प्रतिशत खुराकें आठ राज्यों – महाराष्ट्र, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, गुजरात, पश्चिम बंगाल, कर्नाटक, मध्य प्रदेश और केरल में दी गई हैं।

Next Stories
1 लॉकडाउन का दर्दः बस स्टैंड पर फफक पड़ा प्रवासी, बोला- 3 दिन से नहीं मिल रही बस, पुलिस भी कर रही ज्यादती, देखें वीडियो
2 कोरोनाः मौत से पहले डॉक्टर ने फेसबुक पर लिखा भावुक संदेश, शायद मेरी आखिरी गुड मॉर्निंग
3 ऑक्सीजन पर मारामारीः दिल्ली-यूपी के बीच गैस पर सिर फुटोव्वल, उधर, विज बोले- केजरीवाल सरकार ने लूटा उनका टैंकर
ये पढ़ा क्या?
X