ताज़ा खबर
 

VIDEO: अमरनाथ तीर्थ पर डिबेट में बोले बाबर कादरी- हमारी मस्जिदें बंद है, आप यात्रा करा रहे हैं; पैनलिस्ट ने दिया कड़ा जवाब, देखें

एक टीवी चैनल पर बहस के दौरान बीजेपी नेता सुधांशु त्रिवेदी और पैनलिस्ट बाबर कादरी के बीच तीखी बहस हुई। बाबर कादरी का कहना था कि हमारी मस्जिदें बंद हैं और आप यात्रा करा रहे हैं।

Amarnath Yatra, Sudhanshu Trivediबाबर कादरी और सुधांशु त्रिवेदी के बीच तीखी बहस हुई।

कोरोना वायरस महामारी के बीच अमरनाथ यात्रा शुरू होने वाली है। जम्मू कश्मीर में इसकी तैयारियां शुरू हो गई हैं। एक टीवी चैनल पर बहस के दौरान बीजेपी नेता सुधांशु त्रिवेदी और पैनलिस्ट बाबर कादरी के बीच तीखी बहस हुई। बाबर कादरी का कहना था कि हमारी मस्जिदें बंद हैं और आप यात्रा करा रहे हैं।

एक सवाल के जवाब पर सुधांशु त्रिवेदी ने कहा कि कश्मीर में एक तबका ऐसा है ना जो इस इंतजार में रहता है कि कितने ज्यादा लोग हताहत हुए बस इन लोगों का काम बन जाता है। मैं पूछना चाहता हूं जो लोग आज इसकी बात कर रहे हैं, उनसे पूछना चाहता हूं कश्मीरियत का सबसे पुराना सिंबल क्या है? क्या चीज है जो कश्मीरियत को रिप्रेजेंट करती है। सबसे पुराना और सबसे बड़ा कश्मीरियत का सिंबल अमरनाथ है। इस बीच बाबर कादरी ने कहा कि हमारी जामा मस्जिद एक साल से बंद है आप यात्रा करा रहे हैं। इसपर टीवी एंकर ने बाबर कादरी को शांत कराया और उन्हें अपनी बारी पर बोलने के लिए कहा।


इस दौरान एंकर उनपर भड़क गए उन्होंने कहा अपने टर्म पर बोलिएगा, शो में बदतमीजी मत करो बाबर कादरी। आगे सुधांशु त्रिवेदी ने कहा, उसके बाद कश्मीर में हजरतबल आता है। आप कैसे कह सकते हैं कि कश्मीर में एक ही चीज रहेगी दूसरी नहीं। मैं कई बार आपसे पहले भी बोल चुका हूं बाबर कादरी। आपके नाम में कादरी है। सूफीजम़ का बहुत बड़ा मरकज था कश्मीर आज चारों में से एक भी सिलसिला नहीं है।

आप नहीं बता सकते कि कश्मीर में चार सिलसिलों में ये मरकज है वो मरकज है। सब खत्म हो गए और जो अमरनाथ है वो सबसे पुराना सिंबल है और यह भी ध्यान रखिए यह सिर्फ कश्मीर का नहीं है। पूरे भारत की सांस्कृतिक एकता का सिंबल है। क्योंकि जब आप अमरनाथ में सिर झुकाते हैं तो आपकी श्रृद्धा रामेश्वरम  से भी जुड़ती है, सोमनाथ से भी जुड़ती है और काशी विश्वनाथ से भी जुड़ती है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 1962 की जंगः जब चीन के खिलाफ भारत नहीं था तैयार, सैनिकों के पास नहीं थे जूते और हथियार, पढ़ें रोचक बातें
2 3 माह में कोरोना से लड़ते हुए 106 डॉक्टर देश के लिए कुर्बान, 21 प्रतिशत डॉक्टर्स की उम्र 40 से कम
3 IMD मुहैया करा रहा डेटा, फिर भी विजयन सरकार निजी एजेंसियों पर खर्च करेगी 1 करोड़ रुपए, अफसर बोले- मौसम विभाग के तथ्य ‘सही नहीं’
ये पढ़ा क्या?
X