ताज़ा खबर
 

कांग्रेस नेता अभय दुबे ने कहा- इतिहास से प्रतिशोध मत लीजिए, BJP प्रवक्ता गौरव भाटिया बोले- चुप हो जाइए पढ़े-लिखे हैं, अच्छा नहीं लगता

Madhya Pradesh Political Crisis: दरअसल, टीवी एंकर ने सवाल किया था कि क्या कांग्रेस के विधायकों को डरा धमकाकर कमलनाथ की सरकार गिराए जाने की कोशिश की जा रही है।

BJP, Congress, News in Hindiगौरव भाटिया और कांग्रेस के अभय दुबे के बीच मघ्य प्रदेश के सियासी घटनाक्रम को लेकर तीखी बहस हुई।

मध्य प्रदेश में सियासी उठापटक को लेकर बीजेपी नेता गौरव भाटिया और कांग्रेस नेता अभय दुबे के बीच जमकर बहस हुई।एक टीवी चैनल पर बहस के दौरान बीजेपी नेता गौरव भाटिया ने कहा कि चुप रहो आप पढ़े लिखे हो इतना तो संस्कार है।

दरअसल, टीवी एंकर ने सवाल किया था कि क्या कांग्रेस के विधायकों को डरा धमकाकर कमलनाथ की सरकार गिराए जाने की कोशिश की जा रही है। इस पर गौरव भाटिया ने कहा कि मैं सिर्फ एक तथ्य रखूंगा जिससे कांग्रेस शर्मसार हो जाएगी और अपने चरित्र को जान जाएगी। आजाद भारत के इतिहास में 100 बार से ज्यादा गवर्नर रूल लगाया गया है तो वो कांग्रेस के साथ शासन में लगाया गया है।

इतने कहते ही कांग्रेस प्रवक्ता अभय दुबे बोले कि इतिहास से प्रतिशोध मत लो साहब, उनके यह कहने पर गौरव भाटिया भड़क गए और उन्होंने कहा कि इनको चुप कराइए। ऐसे चर्चा नहीं होती है। इतना बौखलाए नहीं। इनका चेहरा बेनकाब हो रहा है। इसके बाद अभय दुबे फिर से बोलने लगे इस पर गौरव भाटिया ने कहा कि आप शांत हो जाइए पढ़े लिखे हैं। आप संस्कारी हैं। अच्छा नहीं लगता है।


गौरतलब है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया के इस्तीफे के बाद मध्यप्रदेश में कांग्रेस के 22 विधायकों ने इस्तीफा दे दिया है। देवास के हाटपिपलिया से विधायक मनोज चौधरी ने भी इस्तीफा दे दिया। विधायकों के इस कदम से कमलनाथ सरकार की मुश्किलें बढ़ गई हैं। इससे पहले 14 कांग्रेस विधायकों ने राजभवन को विधानसभा सदस्यता से अपने इस्तीफे ई-मेल कर दिये थे। सिंधिया खेमे के विधायकों के इस कदम से प्रदेश में कमलनाथ के नेतृत्व वाली 15 महीने पुरानी कांग्रेस सरकार गिरने के कगार पर पहुंच गई है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 साथी रहे जज ने अब उठाए जस्टिस रंजन गोगोई पर सवाल, बोले- पूर्व CJI ने ‘ज्यूडीश्यरी की आजादी और निष्पक्षता के सिद्धांतों से समझौता’ किया
2 पूर्व CJI रंजन गोगोई को राज्यसभा ऑफर मिलने पर हैरान रह गए थे जस्टिस एपी शाह, बोले- यह ‘रिटर्न गिफ्ट’ जैसा
3 JNU: सावरकर के नाम पर कालिख पोतने के विरोध में ABVP ने लेफ्ट का पुतला जलाकर किया प्रदर्शन
यह पढ़ा क्या?
X