ताज़ा खबर
 

कांग्रेस चीफ पोस्ट पर कलह! CWC में शर्मा से गहलोत की गहमागहमी, दखल दे बोले राहुल- कृपया सभी के लिए…

बैठक में फैसला लिया गया कि अध्यक्ष के चुनाव अब पांच राज्यों के विधान सभा चुनावों के बाद जून 2021 में होंगे। वहीं इस दौरान कुछ नेताओं के बीच गहमागहमी भी देखने को मिली।

Author Edited By सिद्धार्थ राय नई दिल्ली | Updated: January 22, 2021 7:38 PM
Sonia Gandhi,All India Congress Committee,Congress,Rahul Gandhi, Congress,CWC Meet Congress,CWC meeting,Congress president election,Rahul Gandhi,Hot arguments at cwc meet,कांग्रेस,कांग्रेस कार्यसमिति,कांग्रेस अध्यक्ष का चुनाव,जून में होंगे चुनाव,राहुल गांधी, jansattaकांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि इस मुद्दे को हमेशा के लिए ख़त्म करो। (file)

कांग्रेस के नए अध्यक्ष के चुनाव से संबन्धित चर्चा के लिए कांग्रेस कार्य समिति (CWC) की आज बैठक हुई। इस बैठक में कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर भी चर्चा की गई। बैठक में फैसला लिया गया कि अध्यक्ष के चुनाव अब पांच राज्यों के विधान सभा चुनावों के बाद जून 2021 में होंगे। वहीं इस दौरान कुछ नेताओं के बीच गहमागहमी भी देखने को मिली।

बैठक के दौरान राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत आज काफ़ी आक्रामक दिखे। उन्होंने बिना किसी का नाम लिए कहा कि, हम सबको मुख्यमंत्री, केन्द्रीय मंत्री, CWC का सदस्य पार्टी ने बनाया कभी भी चुनाव के ज़रिए कोई पद नहीं मिला लेकिन आज बहुत लोग चुनाव की बात कर रहे है। किसी को पता है अमित शाह और जेपी नड्डा कैसे अध्यक्ष बने हैं। अशोक गहलोत की बात पर आनंद शर्मा नाराज़ हो गए।

आनंद शर्मा ने जवाब देते हुए कहा कि हमने कभी सोनिया गांधी या राहुल को लेकर कुछ नहीं कहा, यह अब आम बात हो गई है कि हमारे लिए ऐसा कहा जाता है। यह ट्रेंड बन गया है। इसपर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने दखल देते हुए कहा “मैं दोनों की बात का आदर करता हूँ। संगठन चुनाव कराकर इस मुद्दे को हमेशा के लिए ख़त्म कर देना चाहिए ताकि देश के बाक़ी महत्वपूर्ण मुद्दो पर काम किया जा सके।

राहुल के अलावा अम्बिका सोनी ने बीच बचाव की कोशिश की। बैठक में गुलाम नबी आजाद, आनंद शर्मा, मुकुल रॉय और पी चिदंबरम सरीखे नेताओं ने संगठनात्मक चुनाव की मांग उठाई थी। ये कांग्रेस के उन्हीं नेताओं में से हैं, जिन्होंने पार्टी नेतृत्व और प्रबंधन को लेकर हाल-फिलहाल के महीनों में असहज प्रश्न दागे थे।

इन नेताओं की मांग के खिलाफ तथाकथित गांधी परिवार के निष्ठावान- अशोक गहलोत, अमरिंदर सिंह, एके एंटनी, तारिक अनवर और ओमन चांडी ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष का चुनाव बंगाल और तमिलनाडु सहित पांच राज्यों के विधान सभा चुनावों के बाद होना चाहिए। एक नेता ने टिप्पणी की “हम किसके एजेंडे पर काम कर रहे हैं? भाजपा हमारी पार्टी की तरह आंतरिक चुनावों के बारे में बात नहीं करती है? पहली प्राथमिकता राज्य के चुनाव और फिर संगठनात्मक चुनाव लड़ना है।”

 

Next Stories
1 केंद्र और कुछ नहीं दे सकता, विचार करना है तो कर लो…ये कह उठ कर चले गए कृषि मंत्री- 11वें दौर की बैठक के बाद बोले किसान नेता
2 ‘किसानों का हुआ सियासी इस्तेमाल’, बोले कृषि मंत्री- कल क्या होगा मुझे नहीं पता, पर आशा पर टिका है आसमान
3 कृषि कानूनः बोले KMSC नेता- 3 घंटे इंतजार करा किया अपमान, कृषि मंत्री ने कहा- प्रस्ताव पर राजी होते हैं तो जारी रह सकती है बातचीत
यह पढ़ा क्या?
X