scorecardresearch

मुस्लिम विरोधी नारेबाजी केस में अश्विनी उपाध्याय अरेस्ट; शिकंजे में “हिंदू फोर्स” चीफ भी, आठ दिन पहले मजार पर हनुमान चालीसा पढ़ने लोगों को बुलाया था

हालांकि, इस आंदोलन की मीडिया प्रभारी शिप्रा श्रीवास्तव ने बताया कि अश्विनी उपाध्याय के नेतृत्व में प्रदर्शन हुआ था। पर मुसलमान विरोधी नारेबाजी करने वालों से उन्होंने किसी तरह के संबंध से इन्कार किया है।

Jantar Mantar, Muslims, New Delhi
नई दिल्ली में जंतर मंतर वाले इलाके में दिल्ली पुलिस और सुरक्षा बल के जवान। (एक्सप्रेस आर्काइव फोटोः ताशी तोबग्याल)

नई दिल्ली के जंतर-मंतर वाले इलाके में मुस्लिम विरोधी नारेबाजी के मामले में अधिवक्ता और पूर्व भाजपा प्रवक्ता अश्विनी उपाध्याय समेत पांच लोग गिरफ्तार कर लिए गए हैं। यह जानकारी मंगलवार (10 अगस्त, 2021) सुबह दिल्ली पुलिस ने दी।

पुलिस ने इसके अलावा दीपक सिंह हिंदू को भी हिरासत में लिया, जो हिंदू फोर्स नामक संगठन का मुखिया होने का दावा करता है। दिल्ली पुलिस ने सोमवार (नौ अगस्त, 2021) रात उत्तर पूर्वी दिल्ली के करावल नगर स्थित घर से उसे पकड़ा। क्राइम ब्रांच के इंटर स्टेट सेल की टीम को इन लोगों को धरने के लिए छापेमारी के लिए लगाया था। एक सीनियर पुलिस अफसर ने इस बारे में बताया कि दीपक के घर के बाहर एक टीम तैनात की गई थी और उसे देर रात 12.40 उठाया गया। वह तब बाहर से घर आ रहा था। पुलिस फिलहाल उससे पूछताछ कर रही है।

एक अन्य वरिष्ठ पुलिस अफसर ने बताया, “31 जुलाई को दीपक ने पूर्वी दिल्ली के पटपड़गंज इलाके में एक मजार पर कुछ लोगों को हनुमान चालीसा के पाठ के लिए बुलाया था।” दरअसल, जंतर-मंतर पर मुस्लिम विरोधी नारेबाजी से जुड़ा वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुआ था, जिसमें मुसलमानों को नुकसान पहुंचाए जाने की बात थी। दिल्ली पुलिस ने सोमवार को इस मामले में केस दर्ज किया था। बता दें कि रविवार को “भारत जोड़ो आंदोलन” की ओर से आयोजित प्रदर्शन में सैकड़ों लोग शामिल हुए थे। वहीं पर यह नारेबाजी की गई थी।

हालांकि, इस आंदोलन की मीडिया प्रभारी शिप्रा श्रीवास्तव ने बताया कि अश्विनी उपाध्याय के नेतृत्व में प्रदर्शन हुआ था। पर मुसलमान विरोधी नारेबाजी करने वालों से उन्होंने किसी तरह के संबंध से इन्कार किया है। बकौल श्रीवास्तव, “यह प्रदर्शन औपनिवेशिक कानूनों के खिलाफ हुआ था और इस दौरान 222 ब्रिटिश कानूनों को निरस्त करने की मांग की गई। हमने वीडियो देखा है, लेकिन कोई जानकारी नहीं है कि वे कौन थे। पुलिस को नारा लगाने वाले लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए।”

उपाध्याय ने भी मुस्लिम विरोधी नारेबाजी की घटना में किसी तरह की संलिप्तता से इनकार किया है। उन्होंने कहा, “मैंने वायरल हो रहे वीडियो की जांच के लिये दिल्ली पुलिस को एक शिकायत दी है। अगर वीडियो प्रमाणिक है तो इसमें शामिल लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए।” उपाध्याय ने कहा, “मुझे कोई जानकारी नहीं है कि वे कौन हैं। मैंने उन्हें पहले कभी नहीं देखा, कभी उनसे मिला नहीं हूं और न ही उन्हें वहां बुलाया था। जब तक मैं वहां था, वे वहां नहीं दिखे। अगर वीडियो फर्जी है, तो भारत जोड़ो आंदोलन को बदनाम करने के लिये झूठा प्रचार किया जा रहा है।”

उधर, राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग ने कथित मुस्लिम विरोधी नारेबाजी के मामले में सोमवार को पुलिस को नोटिस जारी कर कहा कि इस घटना को लेकर सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए। आयोग के उपाध्यक्ष आतिफ रशीद के निर्देश पर इस संस्था ने नयी दिल्ली के पुलिस उपायुक्त को नोटिस जारी किया और कहा कि वह मंगलवार को आयोग के समक्ष उपस्थित होकर इस मामले का ब्योरा और की गई कार्रवाई की जानकारी दें। (एएनआई, पीटीआई और भाषा इनपुट्स के साथ)

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट

X