ताज़ा खबर
 

सिर पर झोला, आंखों में आंसू और गांव जाने की तड़प! दिल्ली में फंसी महिला का फूटा दर्द- पति गुजर गए, घर पर पड़ी लाश, बस पहुंचा दो घर

उन्होंने और उनके साथ एक अन्य महिला ने बताया था- रात 10 बजे से हैं यहां। खाने-पीने को भी कुछ नहीं मिला। हमें किसी भी गाड़ी में बैठा दीजिए। हम चले जाएंगे।

COVID-19, Lockdown, Migrant Woman, Sunita, Sasaram, Bihar, UP Gate, Delhi-UP Border, Husband, Death, Deadbody, House, Village, New Delhi, Bihar, State News, National Newsबिहार की रहने वाली इन महिला को जब दिल्ली-यूपी बॉर्डर नहीं पार करने दिया गया, तो इनका दर्द कुछ यूं छलक पड़ा। (फोटोः पीटीआई)

Coronavirus (COVID-19) संकट और Lockdown के बीच महानगरों से मजदूरों का पलायन थम नहीं रहा है। रविवार को दिल्ली-एनसीआर और आसपास के इलाकों से हजारों श्रमिकों और प्रवासियों ने गृह राज्यों की ओर कदम बढ़ाए। देशव्यापी बंद के बाद काम-धंधा गंवा चुके अधिकतर बेबस मजदूरों में कुछ शहर के बॉर्डर पार करने में सफल रहे, जबकि कुछ नाकाम। ऐसे ही प्रवासियों में थीं सुनीता।

मूलरूप से वह बिहार की रहने वाली हैं। समाचार एजेंसी PTI के मुताबिक, वहां सासाराम में उनके पति का देहांत हो चुका है, जबकि लाश घर पर ही रखी हुई है। घर में छोटे-छोटे बच्चे हैं। लड़का बुरी तरह रोता है। ऐसे में मजबूरी में उन्हें घर जाना पड़ रहा है, पर यूपी गेट के पास दिल्ली-यूपी बॉर्डर क्रॉस नहीं करने दिया गया (खबर आने तक)।

Coronavirus India Live Updates

सुनीता इस दौरान सिर पर सामान से भरा झोला लादे थीं। आंखों में आंसू थे और चेहरे के हावभाव से घर जाने को लेकर तड़प जगजाहिर थी। मौके पर उनसे एक हिंदी टीवी चैनल की रिपोर्टर ने बात की तो उन्होंने अपना दुख-दर्द रोते-बिलखते सुनाया। उनके मुताबिक, ‘हमारा पति मर गए हैं, बच्चे रो रहे हैं..हमें घर पहुंचा दीजिए।”

बस के इंतजार में शनिवार रात से वहां ठहरीं सुनीता किसी भी तरह गांव जाना चाहती हैं। उन्होंने और उनके साथ एक अन्य महिला ने बताया था- रात 10 बजे से हैं यहां। खाने-पीने को भी कुछ नहीं मिला। हमें किसी भी गाड़ी में बैठा दीजिए। हम चले जाएंगे। हमारा लड़का रो रहा है। हम नई दिल्ली में रहते थे। हम यहां तक पैदल आएं। क्या करें? दुख और आफत की स्थिति में क्या करें? पुलिस-प्रशासन के लोग भी नहीं बता रहे हैं कि हम कैसे लौटें। देखें, VIDEO:

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 ‘हम लड़ेंगे’, मजदूरों-श्रम कानून को लेकर केंद्र पर बरसे RSS से जुड़े संगठन के नेता, बोले- श्रमिकों को मारोगे भी, फिर रोने भी न दोगे
2 Lockdown 4.0 Guidelines: चौथे लॉकडाउन में किन चीजों को मिली नरेंद्र मोदी सरकार से मंजूरी? डिटेल में देखें
3 Lockdown Update: 31 मई तक यहां-यहां बढ़ा लॉकडाउन, जानें कहां मिलेगी कैसी ढील
  यह पढ़ा क्या?
X