ताज़ा खबर
 

अधीर रंजन चौधरी बनाए गए लोकसभा में कांग्रेस के नेता, PM नरेंद्र मोदी भी कर चुके हैं तारीफ

सूत्रों के अनुसार, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के यह पद लेने से मना करने के बाद चौधरी को लोकसभा में कांग्रेस का नेता चुना गया है। इससे पहले, लोकसभा में मल्लिकार्जुन खड़गे विपक्ष के नेता थे।

Author नई दिल्ली | June 18, 2019 5:22 PM
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से एक कार्यक्रम के दौरान बात करते हुए अधीर रंजन चौधरी। (फाइल फोटोः फेसबुक/chowdhury.adhir)

अधीर रंजन चौधरी लोकसभा में कांग्रेस के नेता होंगे। मंगलवार (18 जून, 2019) को मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस ने इसका ऐलान किया। सूत्रों के हवाले से कुछ रिपोर्ट्स में कहा गया कि राहुल गांधी के यह पद लेने से इन्कार करने के बाद चौधरी को लोकसभा में पार्टी का नेता बनाया गया। सुबह राहुल की इस बाबत मां और यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी से बात भी हुई। पार्टी की ओर से लोकसभा को लिखे गए पत्र में कहा गया, “अधीर रंजन चौधरी लोकसभा में कांग्रेस के नेता होंगे और वे सभी अहम वर्गों और समितियों का प्रतिनिधित्व करेंगे।”

PM ने पीठ थपथपा कहा था ‘फाइटर’: बता दें कि 17वीं लोकसभा के प्रथम सत्र से पहले चौधरी की खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तारीफ कर चुके हैं। रविवार को सत्र की शुरुआत से एक दिन पहले पीएम ने चौधरी को ‘फाइटर’ बताया। बैठक के बाद पीएम ने उन्हें पास बुलाया था, जिसमें कांग्रेस के कई प्रतिनिधि भी शामिल थे। कॉन्फ्रेंस रूम से निकलते हुए पीएम ने उनकी पीठ थपथपाते हुए बाकी सभी नेताओं (कांग्रेसी गुलाम नबी आजाद और आनंद शर्मा) के सामने कहा था कि चौधरी एक ‘फाइटर’ हैं।

मोदी द्वारा तारीफ पर क्या कहा?: पीएम के तारीफ करने पर उन्होंने ‘एएनआई’ से कहा था- मैंने पीएम को नमस्कार किया। उन्होंने इसके बाद मेरी पीठ थपथपाई और सबके सामने कहा कि अधीर फाइटर हैं। मुझे इस पर खुशी हुई। मेरी किसी से निजी दुश्मनी नहीं है। हम जनप्रतिनिधि हैं और वे (बीजेपी वाले) भी हैं। हम अपनी आवाज उठाएंगे और वे अपनी। हम संसद में बोलने जा रहे हैं, न कि जंग के मैदान में।

CM ममता बनर्जी के हैं कड़े आलोचकः कांग्रेसी सांसद चौधरी पश्चिम बंगाल की राजनीति से ताल्लुक रखते हैं और वह लंबे समय से बंगाल सीएम ममता बनर्जी के कड़े आलोचक रहे हैं। वह 1999 से बंगाल के बहरामपुर इलाके से कांग्रेस का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं। उन्होंने इस बार के आम चुनाव में इस सीट से जीत हासिल की और लगभग 80 हजार वोटों के अंतर से टीएमसी अपूर्व सरकार को मात दी। इससे पहले, लोकसभा में मल्लिकार्जुन खड़गे विपक्ष के नेता हुआ करते थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App