Netaji Files: नेताजी की अस्थियों को जापान से भारत नहीं लाना चाहती थी इंदिरा गांधी सरकार - Jansatta
ताज़ा खबर
 

Netaji Files: नेताजी की अस्थियों को जापान से भारत नहीं लाना चाहती थी इंदिरा गांधी सरकार

केंद्रीय गृह मंत्रालय, खुफिया विभाग और विदेश मंत्रालय के बीच हुए पत्राचार से पता चलता है कि टोक्यो स्थित भारतीय दूतावास ने रेन्‍कोजी मंदिर के मुख्य पुजारी के पास रखी उन अस्थियों को भारत लाने का प्रस्ताव दिया था।

Author नई दिल्‍ली | January 24, 2016 5:36 PM
नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 119वीं पुण्‍यतिथि पर उनका परिवार शनिवार को संसद में पीएम नरेंद्र मोदी से मिला था।

इंदिरा गांधी की सरकार इमरजेंसी के दौर में नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जापान में रखी अस्थियां भारत वापस नहीं लाना चाहती थी। शनिवार को मोदी सरकार की ओर से सार्वजनिक की किए गए नेताजी से जुड़े दस्‍तावेजों के जरिए यह खुलासा हुआ है। केंद्रीय गृह मंत्रालय, खुफिया विभाग और विदेश मंत्रालय के बीच हुए पत्राचार से पता चलता है कि टोक्यो स्थित भारतीय दूतावास ने रेन्‍कोजी मंदिर के मुख्य पुजारी के पास रखी उन अस्थियों को भारत लाने का प्रस्ताव दिया था।

दो सौ पन्नों की इस फाइल से साफ है कि तत्कालीन केंद्र सरकार उन अस्थियों को भारत लाने की इच्छुक नहीं थी। फाइल में मौजूद पत्रों में कहा गया है कि नेताजी के परिजनों और कुछ लोगों की ओर से संभावित विरोध की आशंका के चलते ही सरकार इसे लाने से कतरा रही है।

Read Also: ब्रिटिश वेबसाइट पर Online जारी हुए नेताजी की मौत से जुड़े रिकॉर्ड

इंदिरा गांधी सरकार को डर था कि अगर नेताजी की अस्थियां भारत लाई गईं तो ‘फॉरवर्ड ब्‍लॉक’ को ताकत मिल जाएगी। ‘फॉरवर्ड ब्‍लॉक’ उस समय बड़ी राजनीतिक शक्ति था। विदेश मंत्रालय में उत्तर व पूर्वी एशिया मामलों के तत्कालीन संयुक्त सचिव एनएन झा ने जुलाई 1976 में अस्थियों को लाने की स्थिति में प्रतिकूल प्रतिक्रिया का अंदेशा जताया था। उस समय देश में आपातकाल लागू था। उसके बाद अगस्त, 1976 में खुफिया विभाग के संयुक्त निदेशक टीवी तेजेश्वर ने अपने सहयोगियों को सलाह दी थी कि अस्थियों को भारत नहीं लाना चाहिए क्योंकि उससे जटिलताएं पैदा होंगी।

उन्होंने अपने नोट में कहा है कि बोस के परिजन और उनकी ओर से स्थापित फॉरवर्ड ब्लॉक इन अस्थियों को नेताजी की नहीं मानते। ऐसे में उनको वापस लाने पर सरकार पर झूठी कहानी गढ़ने का आरोप लगेगा और चुनावों के समय यह एक अहम मुद्दा बन जाएगा।

Read Also: PM मोदी ने सार्वजनिक किए दस्‍तावेज, नेहरू की ब्रिटिश PM को कथित चिट्ठी पर भड़की कांग्रेस

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App