ताज़ा खबर
 

उधर संकट में ओली सरकार, फिर भी बॉर्डर पर बाज़ नहीं आ रहा नेपाल! पीलीभीत के पास कर रहा था निर्माण, भारत ने यूं दिया जवाब

इस्तीफा देने के लिये अपनी ही पार्टी के नेताओं के दबाव का सामना कर रहे नेपाली प्रधानमंत्री के. पी. शर्मा ओली का भविष्य अब बुधवार को तय होगा। इस संबंध में सत्तारूढ़ नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी (एनसीपी) की स्थायी समिति की महत्वपूर्ण बैठक तीसरी बार भी स्थगित कर दी गई है।

भारत, नेपाल, चीन, केपी शर्मा ओलीNo Man’s Land ऐसा इलाका होता है, जो सीमा निर्धारित करने के लिए दो मुल्कों के बीच में छोड़ दिया जाता है।

नेपाल में प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली के नेतृत्व वाली सरकार पर इन दिनों भले ही संकट के बादल मंडरा रहे हों, मगर पड़ोसी देश भारत से लगी सीमा पर अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा। सोमवार को उत्तर प्रदेश के पीलीभीत में भारत-नेपाल के बीच नो मैन्स लैंड के पास नेपाल द्वारा निर्माण कार्य करने की खबर आई। आनन-फानन ये बात जिलाधिकारी को पता लगी, तो वे मौके पर टीम के साथ पहुंचे।

पत्रकारों ने जब इस बारे में उनसे पूछा तो उन्होंने बताया- हमें सूचना मिली थी कि नेपाल की ओर से यहां पर कुछ निर्माण किया जा रहा है। नेपाल की तरफ से आश्वासन दिया गया है कि नो मैन्स लैंड वाले इलाके में उसकी तरफ से कोई भी निर्माण कार्य नहीं किया जाएगा।

बकौल पीलीभीत डीएम, “आगे सीमा पर खंभों का जो निर्माण कार्य होना है, वह सर्वे टीम द्वारा जरूरी काम के बाद जल्द ही पूरा कर लिया जाएगा।” कुछ रिपोर्ट्स में इस बाबत बताया गया कि नेपाल की ओर से नो मैन्स लैंड में सड़क बनाई जा रही थी, लेकिन सही समय पर पहुंचते हुए भारतीय अफसरों ने उसे रुकवा दिया। नाव से मौके पर डीएम के साथ एसएसबी के डीआईजी और एसपी फोर्स समेत और अफसर भी थे।

क्या होता है नो मैन्स लैंड?: यह ऐसा इलाका होता है, जो सीमा निर्धारित करने के लिए दो मुल्कों के बीच में छोड़ दिया जाता है। आमतौर पर यह थोड़े ही क्षेत्रफल में होता है, पर जगह के हिसाब से यह अधिक भी हो सकता है। नो मैन्स लैंड किसी भी देश के हिस्से में नहीं आता है। सरहद निर्धारित करने के लिए इसके आस-पास पिलर (खंभे) या प्रतीक चिह्न जैसी चीजें लगा दी जाती हैं।

नेपाली PM का भविष्य अधर में! बैठक फिर टलीः इस्तीफा देने के लिये अपनी ही पार्टी के नेताओं के दबाव का सामना कर रहे नेपाली प्रधानमंत्री के. पी. शर्मा ओली का भविष्य अब बुधवार को तय होगा। इस संबंध में सत्तारूढ़ नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी (एनसीपी) की स्थायी समिति की महत्वपूर्ण बैठक तीसरी बार भी स्थगित कर दी गई है। नेपाल की कम्युनिस्ट पार्टी की 45 सदस्यीय स्थायी समिति की बैठक सोमवार को होनी थी लेकिन अंतिम समय में बैठक को टाल दिया गया।

प्रधानमंत्री के मीडिया सलाहकार सूर्य थापा ने बताया कि बैठक बुधवार तक के लिये टल गयी है। भारत विरोधी बयान को लेकर पार्टी के भीतर विवाद के बीच चीनी राजदूत द्वारा पार्टी के एक शीर्ष नेता से मुलाकात करने के एक दिन बाद यह निर्णय लिया गया है।

नेपाल ने भारतीय सीमा पर अपनी दो चौकियां कीं बंदः नेपाल ने कालापानी-लिपुलेख मुद्दे पर भारत के साथ अपने संबंधों में जारी तनाव के बीच दारचुला में खोली गयी अपनी छह सीमा चौकियों में से दो को बंद कर दिया है। धारचूला के उपजिलाधिकारी एके शुक्ला ने सोमवार को नेपाल सशस्त्र पुलिस के एक प्रवक्ता के हवाले से बताया, “उक्कू और बलारा में सीमा चौकी बंद कर दी गई हैं।”

शुक्ला ने नेपाली अधिकारी के हवाले से कहा, “बाकू, बुर्किल और विनायक में तीन अन्य नेपाली सीमा चौकियां भी बंद होने की प्रक्रिया में हैं।” उन्होंने कहा कि उक्कू और बलारा में दो सीमा चौकियां नेपाल के गृह मंत्रालय के आदेश पर बंद की गयी हैं क्योंकि इन क्षेत्रों में स्थिति सामान्य है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Coronavirus in India HIGHLIGHTS: कोरोनावायरस से निपटने पर स्वास्थ्य मंत्री की अध्यक्षता में मंत्री समूह की बैठक, विदेश मंत्री जयशंकर और नागर विमानन मंत्री भी बैठक में शामिल
2 COVID-19: संक्रमण में भारत तीसरे नंबर पर, स्वास्थ्य मंत्रालय का दावा- 6.73% है पॉजिटिविटी रेट
3 सीमा विवाद पर राहुल गांधी ने उठाए सवाल, कहा-चीन के साथ बातचीत में पूर्व की यथास्थिति की बहाली पर जोर क्यों नहीं दिया गया
ये पढ़ा क्या?
X