ताज़ा खबर
 

पूर्व वित्‍तमंत्री पी. चिदंबरम ने पूछा- RBI नियम बनाता है, जेटली बदल देते हैं, लोग किसपर भरोसा करें?

चिदंबरम ने ट्विटर के जरिए केंद्र सरकार पर हमला किया।

P Chidambaram, Bullet Train Project, demonetisation, Mumbai stampede, Mumbai Train, stampede. Lower Parel Stampede, elphinstone stampede, Piyush Goyal, Rail minister, Foot Over Bridge, FOB, Indian Railways, Railway Stations In india, Hindi News, Rail safetyपूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम। ( File Photo)

पूर्व वित्‍तमंत्री और वरिष्‍ठ कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम ने नोटबंदी के फैसले को लेकर आरबीआई और वित्‍तमंत्री अरुण जेटली को निशाने पर लिया है। चिदंबरम के अनुसार, नोटबंदी के बाद से रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया नए नियम बना रहा है और जेटली उसे बदल रहे हैं। मंगलवार को चिदंबरम ने कहा कि नागरिकों को पता नहीं कि किसपर भरोसा करें कि क्‍योंकि दोनों अपनी साख गंवा चुके हैं। चिदंबरम ने ट्विटर के जरिए केंद्र सरकार पर हमला किया। उन्‍होंने लिखा, ”8 नवंबर को पीएम का वादा और 11 नवंबर को वित्‍तमंत्री का आश्‍वासन। आरबीआई जमा पर नया नियम बनाता है और वित्‍तमंत्री विरोधाभासी बयान देते हैं। नागरिक किसपर भरोसा करें? दोनों में किसी की साख नहीं रह गई।” रिजर्व बैंक ने 19 दिसंबर को 5000 रुपये से ऊपर की रकम एक ही बार में जमा कराने का निर्देश जारी किया था। इसमें कहा गया था कि अब तक रकम जमा क्‍यों नहीं कराई, यह भी बताया जाए। हालांकि मंगलवार को जेटली ने सफाई देते हुए कहा कि ऐसी कोई लिमिट नहीं लगाई गई है और कोई कितनी भी रकम जमा करा सकता है।

चिदंबरम ने ट्वीट कर पूछा कि लोग 30 दिसंबर तक नोट जमा क्‍यों नहीं कर सकते, जैसा 8 नवंबर को सरकार द्वारा वायदा किया गया था। उन्‍होंने कहा, ”पुराने नोट 15 दिसंबर तक इस्‍तेमाल किये जा सकते थे। जैसा बताया गया था, वैसे हम 30 दिसंबर तक बचे हुए नोट जमा क्‍यों नहीं कर सकते?

नोटबंदी के फैसले की आलोचना करते हुए चिदंबरम ने कहा कि ”कर चोरों ने अपने पुराने नोट बदलवा लिए। गरीब और मध्‍यम वर्ग परेशान और पैसों की किल्‍लत से जूझ रहा है।” कांग्रेस उपाध्‍यक्ष राहुल गांधी ने भी मंगलवार को सरकार व आरबीआई के बयानों में विरोधाभास पर निशाना साधा। उन्‍होंने ट्वीट किया, ‘RBI उसी तरीके से नियम बदल रही है, जिस तरीके से मोदीजी कपड़े बदलते हैं।’

लगातार बदले जा रहे नियमों को लेकर राज्यसभा से भाजपा सांसद स्वपन दास गुप्ता ने सरकार की आलोचना की थी। दासगुप्ता ने ट्वीट किया था, ‘पुराने नोटों के 30 दिसंबर तक जमाए कराने जाने पर नई पाबंदी गैर-जरूरी है। इससे लोगों का सरकार में भरोसा कम होगा।’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 काफी मुश्किलों के बाद एक हुए गुजरात का लड़का और पाकिस्तान की लड़की, जानिए उनकी प्रेम कहानी
2 नोटबंदी, सम-विषम, शराबबंदी जैसे असाधारण फैसलों और फ़रमानों के नाम रहा साल 2016
3 राहुल गांधी ने साधा RBI पर निशाना, लिखा- उसी तरीके से नियम बदल रही है, जिस तरीके से मोदीजी कपड़े बदलते हैं
IPL 2020 LIVE:
X