ताज़ा खबर
 

भाजपा-कांग्रेस में मिलीभगत, हमें दीजिए ACB बताते हैं कैसे होती है जांचः केजरीवाल

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शनिवार (7 मई) को जंतर मंतर पर प्रदर्शन किया। उन्होंने केंद्र सरकार पर आरोप लगाया कि वह अगस्ता वेस्टलैंड घोटाले की गंभीरता से जांच नहीं कर रही है।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने जंतर-मंतर पर प्रदर्शन के दौरान भाजपा और कांग्रेस की मिलीभगत का आरोप लगाया।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शनिवार (7 मई) को जंतर मंतर पर प्रदर्शन किया। उन्होंने केंद्र सरकार पर आरोप लगाया कि वह अगस्ता वेस्टलैंड घोटाले की गंभीरता से जांच नहीं कर रही है। केजरीवाल ने कहा कि यदि केंद्र भ्रष्टाचार निरोधक शाखा को दिल्ली सरकार के हवाले कर दे तो वह सिखा देंगे कि इस तरह के मामलों की जांच कैसे की जाती है। उन्होंने कहा, “इटली की सरकार ने जांच पूरी करके दोषियों को जेल भी भेज दिया, लेकिन हमारे प्रधानमंत्री जी की सरकार में जांच एक इंच भी नहीं बढ़ी।” उन्होंने कहा कि अगर आपसे जांच नहीं हो रही है तो बंद कर दीजिए सीबीआई, ईडी और बाकी जांच एजेंसियां। सोनिया, अहमद पटेल, और कांग्रेसियों के इस मामले में नाम हैं लेकिन मोदी जी की हिम्मत नहीं हो रही है कि इस मामले में सोनिया गांधी जी से सवाल करें। केजरीवाल ने मोदी जी की डिग्रियों के मामले में कहा कि मैं नहीं कहता की प्रतिभा डिग्रियों की मोहताज होती है। लेकिन यदि प्रधानमंत्री देश के साथ धोखाधड़ी करेंगे तो देश बर्दाश्त नहीं करेगा।

Read Also: Twitter पर @narendramodi और @ArvindKejriwal के मिलन का ऐसे उड़ रहा मजाक

केजरीवाल ने पीएम की डिग्री के मामले में कांग्रेस की चुप्पी को लेकर भाजपा के साथ उसकी मिलीभगत होने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि मोदी सोनिया गांधी और दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के कार्यकाल में हुए मामलों को ठंडे बस्ते में डाल कर उनकी मदद कर रहे हैं। केजरीवाल ने मीडिया से बातचीत में कहा, “कांग्रेस कांग्रेस इस मामले में चुप क्यों है? भाजपा सिर्फ सोनिया गांधी की बुराई करती है पर उन्हें गिरफ्तार नहीं करती। कांग्रेस मोदी की डिग्रियों को लेकर खामोश है। वे एक दूसरे के खिलाफ धरना दे रहे हैं। क्या लोग बेवकूफ हैं। इन दोनों के बीच सेटिंग है।”

Read Also: पीएम मोदी के बीए की डिग्री का ‘सबूत’ मांगने DU पहुंचे आप नेता

केजरीवाल ने कहा, “मोदी जी सिर्फ सोनिया गांधी की ही नहीं बल्कि शीला दीक्षित की भी मदद कर रहे हैं। उन्होंने कहा, “हमने 49 दिन की सरकार में शीला दीक्षित सरकार के खिलाफ 3 एफआईआर कराई थीं, मुकेश अंबानी के खिलाफ एफआईआर कराई थी। लेकिन जब हमने सत्ता छोड़ी तो इन लोगों ने कुछ नहीं किया। उन्होंने एक फाइल भी यहां से वहां नहीं की और सारा मामला ठंडे बस्ते में डाल दिया।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App