ताज़ा खबर
 

बचकर आए जवानों से सुनें नक्सली हमले की कहानी

छत्तीसगढ़ के बस्तर क्षेत्र में नक्सलियों के अलग-अलग हमलों में सुरक्षा बलों के पांच जवानों की हत्या कर दी। नक्सलियों ने दंतेवाड़ा जिले में चार जवानों की और कांकेर जिले में एक जवान की हत्या कर दी। इसी बीच केंद्र सरकार ने कहा कि वह छत्तीसगढ़ में नक्सली हमलों में अपनी जान कुर्बान करने वाले […]

छत्तीसगढ़ के बस्तर क्षेत्र में नक्सलियों के अलग-अलग हमलों में सुरक्षा बलों के पांच जवानों की हत्या कर दी। नक्सलियों ने दंतेवाड़ा जिले में चार जवानों की और कांकेर जिले में एक जवान की हत्या कर दी। इसी बीच केंद्र सरकार ने कहा कि वह छत्तीसगढ़ में नक्सली हमलों में अपनी जान कुर्बान करने वाले सुरक्षा जवानों को वीरता पुरस्कार से सम्मानित करेगी।

वहीं छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले के पिडमेल में नक्सली हमले में घायल हुए जवानों ने नक्सली हमले की पूरी कहानी सुनाई। सुत्रों की मानें तो एसटीएफ जवानों का कहना था कि उस दिन गुप्त सूचना मिलने के बाद हम आर-पार की लड़ाई के लिए गए थे। हमले के बाद लौटते वक्त हमने करीब 20 नक्सलियों को भी ढेर किया था।

बस्तर क्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक एसआरपी कल्लूरी ने बताया कि दंतेवाड़ा जिले के किरंदुल थाना क्षेत्र के तहत चोलनार से किरंदुल मार्ग के मध्य खुटियापारा गांव के पास बारूदी सुरंग में विस्फोट कर बम निरोधक वाहन को उड़ा दिया। इस हमले में वाहन में सवार 12 पुलिसकर्मियों में से छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल के दो जवान आरक्षक जयप्रकाश पासवान और अलाउद्दीन व जिला बल के दो जवान शिव कश्यप और सहायक आरक्षक लल्लू प्रधान शहीद हो गए और आठ जवान घायल हुए हैं।

घायलों में दो की हालत गंभीर है। उन्होंने बताया कि चोलनार-किरंदुल के बीच सड़क निर्माण कार्य चल रहा है जिसकी सुरक्षा के लिए पुलिस दल को तैनात किया गया है। सोमवार को सुरक्षा बल के जवान निर्माण कार्य की सुरक्षा में लगे थे तभी नक्सलियों ने बारूदी सुरंग में विस्फोट कर दिया।

कल्लूरी ने बताया कि घटनास्थल के लिए अतिरिक्त पुलिस दल रवाना किया गया और शवों व घायलों को वहां से निकाला गया। घायलों को एनएमडीसी के अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां दो की हालत गंभीर है। पुलिस दल ने क्षेत्र में हमलावर नक्सलियों की खोज तेज कर दी है।

पुलिस महानिरीक्षक ने बताया कि बस्तर क्षेत्र के कांकेर जिले में नक्सलियों ने रविवार रात सीमा सुरक्षा बल के गश्ती दल पर हमला कर दिया था जिसमें बल का एक जवान शहीद हो गया। तब बीएसएफ के जवान गश्त पर थे। हमले के बाद सुरक्षा बल ने भी नक्सलियों के खिलाफ जवाबी कार्रवाई की लेकिन नक्सली वहां से फरार हो गए।

केंद्र सरकार छत्तीसगढ़ में नक्सली हमलों में अपनी जान कुर्बान करने वाले सुरक्षा जवानों को वीरता पुरस्कार से सम्मानित करने के साथ उनके परिजनों को भी लाभ देगी। गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने दिल्ली में संवाददाताओं को बताया कि हमने उन्हें वीरता पुरस्कार देने का फैसला किया है। हमने उनके परिवार के सदस्यों को अन्य सुविधाएं देने का भी फैसला किया है। हम जल्द ही उचित घोषणा करेंगे। छत्तीसगढ़ में शहीद हुए सुरक्षा जवानों को श्रद्धांजलि देते हुए सिंह ने कहा कि अपने प्राणों का बलिदान करने वाले जवानों के साहस को मैं सलाम करता हूं।

छत्तीसगढ़ में पिछले तीन दिनों से नक्सली लगातार उत्पात मचा रहे हैं। शनिवार को नक्सलियों ने बस्तर क्षेत्र के सुकमा जिले में हमला कर सात जवानों की हत्या कर दी थी। इस हमले में 10 पुलिस जवान घायल हुए हैं। रविवार को नक्सलियों ने कांकेर जिले में 17 गाड़ियों में आग लगा दी थी।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories