काजी का दावा- मुस्लिम हैं समीर वानखेड़ेः मलिक ने जारी किया निकाहनामा; पिता ने NCP नेता को रावण बता कहा- वो कुछ भी कर सकते हैं

क्रूज ड्रग्स मामले की जांच कर रहे समीर वानखेड़े के खिलाफ एनसीपी नेता नवाब मलिक हर रोज नए खुलासे कर रहे हैं। इसी कड़ी में बुधवार को उन्होंने NCB जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े का निकाहनामा साझा किया।

Nawab Malik Sameer Wankhede
NCP नेता नवाब मलिक (बाएं), NCB डायरेक्टर समीर वानखेड़े (बाएं)। Source- Indian Express

क्रूज ड्रग्स मामले की जांच कर रहे समीर वानखेड़े के खिलाफ एनसीपी नेता नवाब मलिक हर रोज नए खुलासे कर रहे हैं। इसी कड़ी में बुधवार को उन्होंने NCB जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े का निकाहनामा साझा किया। जिसके बाद वानखेड़े का निकाह पढ़ने वाले काजी भी सामने आ गए है। काजी का नाम मुजम्मिल अहमद बताया जा रहा है, उन्होंने बताया कि साल 2006 में उन्होंने समीर दाऊद वानखेड़े का निकाह पढ़वाया था। समाचार चैनल ABP से बातचीत में उन्होंने कहा कि वो किसी गैर मुस्लिम का निकाह नहीं करवाते हैं, शादी के वक्त समीर वानखेड़े मुस्लिम थे।

काज काजी ने बताया कि निकाहनामा में उर्दू भाषा में किए गए हस्ताक्षर भी समीर के ही हैं। बकौल काजी, जब समीर मेरे पास आए थे तो खुद को और अपने पिता को मुसलमान बताया था।

बेटे के बचाव में उतरे पिता: इन सबके बीच वानखेड़े के पिता ज्ञानदेव भी सामने आए और अपने बेटे का बचाव किया। उन्होंने सभी आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि मैंने कभी भी धर्म नहीं बदला। NCB अधिकारी के पिता ने यह स्वीकार किया कि हमारी इंटरकास्ट मैरिज हुई थी लेकिन मैंने या मेरी पत्नी ने कभी अपना धर्म नहीं बदला।

ज्ञानदेव वानखेड़े ने सबूत के तौर पर अपनी पत्नी का एफिडेविट भी दिखाया, उन्होंने कहा कि मेरा बेटा महाभारत के अभिमन्यु की तरह है जो इस समय दुश्मनों से घिरा हुआ है, लेकिन मुझे यकीन है कि वह अर्जुन की तरह इस ‘चक्रव्यूह’ को तोड़कर बाहर निकलेगा। वहीं मंत्री नवाब मलिक को रावण बताते हुए उन्होंने कहा कि एनसीपी नेता, राजनीति के बहुत निचले स्तर पर आ चुके हैं। परिवार की तरफ से वानखेड़े की शादी का सर्टिफिकेट भी जारी किया गया है।

नवाब मलिक ने दाढ़ी वाले का किया जिक्र: नवाब मलिक ने क्रूज़ जहाज पर ड्रग्स पार्टी के भंडाफोड़ को ‘‘फर्जी’’ बताया है और इस मामले की जांच की अगुवाई कर रहे वानखेड़ पर कई आरोप लगाए हैं। मंत्री ने बुधवार को कहा, ‘‘ कॉर्डेलिया क्रूज़ पर पार्टी के आयोजक ‘फैशन टीवी’ ने नौका के संचालन की परमिशन महाराष्ट्र पुलिस या राज्य के गृह विभाग से नहीं ली थी। उन्होंने नौवहन निदेशालय से अनुमति ली थी, जो केन्द्रीय बंदरगाह, नौवहन एवं जलमार्ग मंत्रालय के अधीन आता है।’’

मलिक ने कहा कि मेरा मानना है कि दिल्ली से एनसीबी के शीर्ष अधिकारियों की एक समिति यहां आई है। उन्हें एनसीबी की मुंबई क्षेत्रीय इकाई के निदेशक समीर वानखेड़े, केपी गोसावी, प्रभाकर सैल और वानखेड़े के चालक के माणे के निजी फोनों पर आए सभी कॉल की सघन जांच करनी चाहिए। आपको कोई बयान दर्ज नहीं करने पड़ेंगे। फोन कॉल से सब कुछ स्पष्ट हो जाएगा।’’मंत्री ने दावा किया कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सक्रिय मादक पदार्थ गिरोह का एक सदस्य भी उसी क्रूज़ जाहज पर मौजूद था।

राकांपा के प्रवक्ता ने पूछा, ‘‘ पार्टी की कुछ वीडियो सामने आई है, जिनमें एक दाढ़ी वाले एक व्यक्ति को देखा जा सकता है। मुझे बताया गया है कि वह पहले तिहाड़ जेल (दिल्ली) में और राजस्थान की जेल में बंद था। एनसीबी के दिल्ली से आए दल को क्रूज़ पर लगे सीसीटीवी की फुटेज देखनी चाहिए। कैसे कुछ लोग गिरफ्तार हुए और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सक्रिय मादक पदार्थ गिरोह का यह सदस्य आजाद घूम रहा है।’’

कोर्ट ने तत्काल सुनवाई से किया इनकार: बंबई हाई कोर्ट ने महाराष्ट्र के मंत्री और एनसीपी के नेता नवाब मलिक को एक्टर शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान से जुड़े ड्रग्स के मामले में एनसीबी के खिलाफ कोई टिप्पणी नहीं करने के संबंध में निर्देश देने संबंधी जनहित याचिका पर बुधवार को तत्काल सुनवाई से इनकार कर दिया। हाई कोर्ट में मंगलवार को जनहित याचिका दाखिल करने वाले कौसर अली ने खुद को मौलवी और नशा करने वालों के पुनर्वास के लिए काम करने वाला व्यक्ति बताया है।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट