ताज़ा खबर
 

अभूतपूर्व: पंचोत्सव सिमट रहे हैं चार दिन में

श्राद्ध के अगले दिन आरंभ होने वाला नवरात्र एक महीना आगे खिसक गया। चौमासा पंचमासा में बदल गया तो दिवाली के पंच पर्व चार दिवसीय हो गए हैं।

इस वर्ष दिवाली पर गुरु स्वराशि धनु, शनि भी अपनी मकरराशि में तथा शुक्र कन्या में होंगे। ऐसा दुर्लभ संयोग, लगभग 500 साल पहले 1521 में बना था।

मदन गुप्ता सपाटू
2020 में सामाजिक जीवन के साथ धार्मिक गतिविधियों में भी अप्रत्याशित परिवर्तन हुए हैं। श्राद्ध के अगले दिन आरंभ होने वाला नवरात्र एक महीना आगे खिसक गया। चौमासा पंचमासा में बदल गया तो दिवाली के पंच पर्व चार दिवसीय हो गए हैं। यहां तक कि शरद पूर्णिमा का ‘ब्लू मून’ भूकंप और सुनामी तक ले आया। अधिकांश त्योहारों को सार्वजनिक रूप से मनाने की बजाय सीमित स्थानों पर और संसाधनों से मनाना पड़ा।

दिवाली तथा भाई दूज पर पटाखों, मिठाइयों व उपहारों के आदान प्रदान पर एक अंकुश सा रहेगा। इस वर्ष दिवाली पर गुरु स्वराशि धनु, शनि भी अपनी मकरराशि में तथा शुक्र कन्या में होंगे। ऐसा दुर्लभ संयोग, लगभग 500 साल पहले 1521 में बना था। गुरु तथा शनि की स्थिति, धन संबंधी कार्यकलापों, देश की आर्थिक स्थिति में सुधार होने के संकेत दे रहे हैं।

दिवाली का त्योहार धनतेरस से शुरू होता है और भाई दूज के साथ समाप्त होता है। धनतेरस के दिन, स्वास्थ्य के देवता भगवान धनवंतरी की जयंती भी मनाई जाती है। हिंदू पंचांग के अनुसार, धन्वंतरि जयंती का त्योहार कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि को मनाया जाता है।

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, भगवान धन्वंतरी धनतेरस के दिन समुद्र मंथन के दौरान भगवान अमर कलश को अपने हाथों में लेकर प्रकट हुए थे, इसलिए धनतेरस के दिन भगवान धन्वंतरि की पूजा विधि-विधान से की जाती है। इसके साथ ही इस दिन धन की देवी कुबेर, देवी लक्ष्मी और गणेश जी की पूजा करने का भी विधान है।

क्या करें?
1-13 नवंबर सायं 5:30 बजे से 7:30 बजे तक खरीदारी कर सकते है। प्रदोष काल सायं 5:30 से 8 बजे तक रहेगा। वैद्य एवं चिकित्सक धन्वंतरी की पूजा अर्चना कर सकते हैं।
2-प्रात: प्रवेश स्थल व द्वार को धो दें और रंगोली बनाएं, वंदनवार, बिजली की झालर लगाएं।
3-घर का सारा कूड़ा करकट, अखबारों की रद्दी, टूटा-फूटा सामान, पुरानी बंद इलेक्ट्रानिक चीजें बेच दें। जाले साफ करें। नया रंग रोगन करवाएं। आफिस घर साफ करें। अपने शरीर की सफाई करें। तेल उबटन लगाएं। पार्लर जा सकते हैं।
4-पुराने बर्तन बदल के नए लें। चांदी के बर्तन या सोने के जेवर खरीदें। नया वाहन या घर की कोई दीर्घ समय तक प्रयोग की जाने वाली नई चीज लें।

5-इस दिन बाजार से नया बर्तन घर में खाली न लाएं उसमें, मिष्ठान या फल भर के लाएं।
6-धनतेरस की रात यदि आपको अपने घर में छिपकली दिख जाए तो समझें पूरा वर्ष शुभ रहेगा। इस दिन संयोगवश इसके दर्शन दुर्लभ होते हैं।
7-सायंकाल मुख्य द्वार पर आटे का चौमुखी दीपक बना कर, चावल या गेहूं की ढेरी पर रखें। साथ में जल, रोली ,गुड़ फूल नैवेद्य रखें। इसे आज से पांच दिन हर शाम जलाएं। व्यवसायी अपने बही-खाते, विद्यार्थी पुस्तकों आदि की पूजा करें।
8-आरोग्य हेतु आज धन्वंतरि दिवस पर जरुरत मंदों को दवाई दान दें।
9-इस दिन नए कपडे़ पहनने से पूर्व उन पर हल्दी या केसर के छींटे दें।

राशि के हिसाब से करें
1.मेष : सोने का सिक्का ,विद्युत या इलेक्ट्रिानिक उपकरण मोबाइल, टीवी आदि खरीदें। लाल फल का दान करें।
2.वृष : गोल्ड क्वाएन, साबुत हल्दी, शिक्षा संबंधी उपकरण जैसे लैपटाप या कंप्यूटर ले सकते हैं।
3.मिथुन : फूड प्रोसेसर, मिक्सी ,केसर, कलई किए बर्तन आदि लें।
4.कर्क : चांदी के बर्तन, मोती का हार या अंगूठी, मकान वाहन का क्रय आज अत्यंत शुभ रहेगा। फ्रिज, वाटर प्योरिफायर या वाटर कूलर खरीदें।

5.सिंह : सोने के आभूषण या सोने के सिक्के खरीदना धन वृद्धि करेगा। शहद, खजूर उपहार दें ।
6.कन्या : नया मोबाइल, ब्रॉडबैंड कनेक्शन, टीवी तथा संचार संबंधी उपकरण, स्टील के बर्तन, घरेलू उपकरण खरीदें। क्रेडिट कार्ड या ऋण लेकर कुछ न खरीदें।
7.तुला : चांदी के बर्तन, क्राकरी लें। परफयूम, रियल एस्टेट में निवेश करें। हर तरफ से धन धान्य की प्राप्ति।
8.वृश्चिक: इलेक्ट्रानिक सामान खरीदें। लाल रंग का एप्लायंस अच्छा रहेगा। तांबे के बर्तन, सजावटी सामान खरीदें।
9.धनु : लक्ष्मी जी का सोने का सिक्का या मूर्ति खरीद कर पूजा स्थान पर स्थापित करें।
10.मकर : प्रापर्टी से कुछ प्राप्त होगा। यदि वाहन या गृहपयोगी बर्तन या बिजली के यंत्र खरीदना चाहें तो काले रंग के लें।
11. कुंभ: लोहे की कढ़ाई, कुकर,वाहन, फ्रिज, टीवी आदि काले,नीले या भूरे रंग का लें।
12.मीन : पूर्वनिर्मित मकान या फ्लैट की प्राप्ति। प्रापर्टी का बयाना देना।

Next Stories
1 जीवन जगत: जीवन का बस एक ही मकसद हो…आनंद
2 पंचपर्व: दीपोत्सव…पंचोत्सव
3 कोरोना वैक्सीन के लिए आम लोगों को करना होगा 2022 तक इंतजार, बोले एम्स डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया
ये पढ़ा क्या?
X