UAE में ISI चीफ से गुपचुप मिले थे अजीत डोभाल, गुप्त रखी गई सारी जानकारी

पाकिस्तान आर्मी चीफ जनरल बाजवा ने पत्रकारों के साथ हुई एक मीटिंग में इस बात कि पुष्टि की है कि आईएसआई चीफ जनरल हमीद और भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने यूएई में एक ख़ुफ़िया बैठक की थी।

ajit doval, india, pakistanपाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल क़मर जावेद बाजवा और पत्रकारों के साथ हुई बातचीत में ही इस बात का खुलासा किया गया है कि आईएसआई चीफ जनरल हमीद और भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने यूएई एक ख़ुफ़िया बैठक की थी। (एक्सप्रेस फोटो: अनिल शर्मा)

भारत और पाकिस्तान ने साल 2003 में हुए सीजफायर समझौते को लागू करने पर सहमति जता दी है। भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने ही इस समझौते को लागू करने में अहम भूमिका निभाई थी। पिछले साल अजीत डोभाल इस समझौते से पहले यूएई में पाकिस्तान की इंटर सर्विसेज इंटेलिजेंस (आईएसआई) के प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल फैज हमीद से मिले थे। इसकी जानकारी गुप्त रखी गई थी।

इंडियन एक्सप्रेस के सूत्रों के अनुसार पाकिस्तान आर्मी चीफ जनरल बाजवा ने पत्रकारों के साथ हुई एक मीटिंग में इस बात कि पुष्टि की है कि आईएसआई चीफ जनरल हमीद और भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने यूएई में एक ख़ुफ़िया बैठक की थी। साथ ही बाजवा ने यह भी कहा कि कोरोना महामारी की वजह से ही यह बैठक दूसरे देश में आयोजित की गई थी। बता दें कि पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल क़मर जावेद बाजवा ने 23 अप्रैल को एक आधिकारिक इफ्तार में लगभग 20 पत्रकारों के साथ बातचीत की थी। पत्रकारों के साथ हुई बातचीत में ही इस बात का खुलासा किया गया है।

पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल क़मर जावेद बाजवा ने पत्रकारों के साथ हुई मीटिंग में यह भी कहा कि भारत और पाकिस्तान के अधिकारियों के साथ हुई यह बैठक कोई असाधारण नहीं थी, ऐसा अक्सर दो देशों के बीच होता रहता है। साथ ही बाजवा ने कहा कि इस तरह दो ख़ुफ़िया एजेंसियों के प्रमुख के बीच होने वाली मीटिंग साल 2017 से हो रही है जब शाहिद खाकान अब्बासी पाकिस्तान के प्रधानमंत्री हुआ करते थे।

इसके अलावा जनरल बाजवा ने मीटिंग में यह भी कहा कि दोनों देशों के बीच बातचीत शुरू करवाने के लिए भारत की तरफ से एक दूत को भेजा गया था। जिसने दो देशों के बीच होने वाली मीटिंग में यूएई को मध्यस्थता करने के लिए कहा था। साथ ही बाजवा ने यह भी कहा कि दोनों देश कश्मीर को छोड़ कर बाकी मुद्दों पर सहमत हो गए हैं। हालांकि बाजवा ने यह भी कहा कि 24-25 फरवरी को संघर्ष विराम शुरू होने के बाद से दोनों पक्षों के बीच अभी तक कोई बातचीत नहीं हुई है।

पत्रकारों के साथ हुई बातचीत में कमर जावेद बाजवा ने अनुच्छेद 370 का भी उल्लेख किया। बाजवा ने कहा कि अनुच्छेद 370 पाकिस्तान के लिए कोई मायने नहीं रखता है क्योंकि उसने कभी भी भारतीय संविधान के इस प्रावधान को मान्यता नहीं दी थी। बाजवा ने कहा कि पाकिस्तान सिर्फ कश्मीर में किसी भी तरह का जनसांख्यिकीय परिवर्तन नहीं चाहता है और भारत ने इस मामले में उन्हें आश्वासन भी दिया है।

बता दें कि पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा अगले साल रिटायर होने वाले हैं. जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने के बाद पाकिस्तान की इमरान खान की सरकार ने सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा का कार्यकाल अगले 3 वर्षों के लिए बढ़ा दिया था।

Next Stories
1 नोएडाः CMO के पैर पकड़ गिड़गिड़ाने लगे मरीजों के परिजन, महिलाएं बोलीं- रेमडिसिविर दिलवा दीजिए
2 मोदी राज आया तो आने लगा भूकंप, जब लालू प्रसाद ने कहा था- सरकार 1 नंबर देने लायक भी नहीं
3 कोरोना में ज़िंदा इंसानियत: नौजवान के लिए बुजुर्ग ने बेड किया क़ुर्बान, दोस्त को 24 घंटे में बोकारो से नॉएडा पहुँचाया ऑक्सिजन
यह पढ़ा क्या?
X