ताज़ा खबर
 

अकेले नरेंद्र मोदी और अमित शाह का था सुब्रमण्यम स्वामी और नवजोत सिद्धू को राज्यसभा भेजने का फैसला

सुब्रमण्यम स्वामी को राज्यसभा भेजने के फैसले पर जेटली के अलावा पार्टी के किसी भी नेता से विचार-विमर्श नहीं किया गया।

Author Updated: April 26, 2016 8:26 AM
सुब्रमण्यम स्वामी (Photo Source:Indian Express)

सब्रमण्यम स्वामी और नवजोत सिंह सिद्धू को राज्यसभा भेजने का फैसला अकेले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने लिया है। इस बारे में पार्टी के अन्य वरिष्ठ नेताओ से किसी तरह की कोई सलाह नहीं ली गई। हालांकि, अरुण जेटली से जरूर इस बारे में विचार-विमर्श किया गया था। इससे साफ जाहिर होता है कि पार्टी पर केवल दो ही लोगों का नियंत्रण है। भाजपा के एक वरिष्ठ नेता के मुताबिक राज्यसभा के लिए सदस्यों का नॉमिनेशन शाह और मोदी द्वारा अगले तीन महीनों में लिए जाने वाले राजनीतिक फैसलों की सीरिज की शुरुआत है। इसके बाद मंत्रिमंडल में फेरबदल, शाह की नई टीम और राज्यसभा के लिए अगले चरण के लिए भाजपा उम्मीदावरों का चयन के बारे में फैसला किया जाएगा।

Read Also: जानें, राज्यसभा पहुंचने वाले बॉक्सर, क्रिकेटर, अर्थशास्त्री और पत्रकार के बारे में खास FACTS

एक सूत्र ने बताया कि राज्यसभा के लिए छह लोगों को मनोनीत मेरिट के आधार पर किया गया है। हमारे नेतृत्व का कोई पसंदीदा नहीं है और विश्वासपात्र नहीं है। यहां पर कुछ भी व्यक्तिगत नहीं है। पार्टी के हित केंद्र में है और ये ही चयन का मापदंड है। पार्टी के व्यापक लक्ष्य के लिए जो भी अपना योगदान देता है, वह हमारा पसंदीदा है।

Read Also: 1998 में वाजपेयी सरकार गिराने वाले, आंबेडकर की जीवनी लिखने वाले को BJP ने बनाया राज्यसभा सांसद

साल 2014 लोकसभा चुनाव में नई दिल्ली सीट के लिए टिकट नहीं दिया गया था। लेकिन अभी स्वामी को आरएसएस चीफ मोहन भागवत का पूरा समर्थन है। जिन्होंने भी स्वामी का विरोध किया उन्हें नेशन्ल हेराल्ड केस में उनकी मेहनत के बारे में बताया गया। सिद्धू जिन्होंने जेटली के लिए अमृतसर लोकसभा सीट छोड़ दी थी को भी राज्यसभा के रणनीति के तहत भेजा गया है। बताया जा रहा है कि सिद्धू को राज्यसभा भेजने का फैसला शाह ने उन्हें पंजाब में आम आदमी पार्टी में जाने से रोकने के लिए लिया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
ये पढ़ा क्या?
X