ताज़ा खबर
 

कांग्रेस, लोकतांत्रिक कांग्रेस और सपा के बाद बीजेपी में आए नरेश अग्रवाल, कहा था- मोदी हैं तेली, पढ़ें: विवादित बोल

अग्रवाल साल 1989 तक कांग्रेस में भी रह चुके हैं। 1997 में उन्होंने जगदंबिका पाल के साथ मिलकर अखिल भारतीय लोकतांत्रिक कांग्रेस पार्टी बनाई थी।

समाजवादी पार्टी के नेता नरेश अग्रवाल बीजेपी में शामिल हो गये।

समाजवादी पार्टी सांसद नरेश अग्रवाल विधायक बेटे (नितिन अग्रवाल) के साथ आज (11 मार्च को) नई दिल्ली में बीजेपी में शामिल हो गए। पार्टी मुख्यालय में उन्होंने रेल मंत्री पीयूष गोयल ने उन्हें गुलदस्ता देकर और पार्टी का अंगवस्त्र पहनाकर बीजेपी में स्वागत किया। इस मौके पर बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा और गौरव भाटिया भी मौजूद थे। इस मौके पर उन्होंने सपा से अपनी नाराजगी का खुलकर इजहार किया और कहा कि सपा ने फिल्मों में डांस करने वाली से उनकी तुलना की और फिल्मों में काम करने वाली को बेहतर समझकर राज्यसभा का टिकट दिया। अग्रवाल ने बसपा से दोस्ती करने पर सपा को एक क्षेत्रीय दल से भी गया-गुजरा बताया।

बता दें कि नरेश अग्रवाल अपने बयानों को लेकर इसी साल फरवरी में भी तब विवादों में आए थे जब उन्होंने प्रधानमंत्री मरेंद्र मोदी को तेली कहा था। लखनऊ में अखिल भारतीय वैश्य महासम्मेलन में उन्होंने शिरकत करते हुए कहा था कि उन्होंने अमित शाह से वैश्य समाज के लोगों को अधिक से अधिक टिकट देने की बात कही थी, साथ ही वैश्य हितों के लिए कानून बनाने की बात कही थी। लगे हाथ उन्होंने कहा कि अमित शाह हमारे समाज से आते हैं मोदी नहीं। उन्होंने कहा था, “मोदी तेली है, हमारे समाज का नहीं है।”

नरेश अग्रवाल के इस बयान की तब काफी आलोचना हुई थी। यूपी बीजेपी के अध्यक्ष महेन्द्र नाथ पांडेय ने तब अग्रवाल की आलोचना करते हुए उन्हें माफी मांगने को कहा था। बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष ने कहा था कि मोदी देश के प्रधानमंत्री हैं और देश की सवा सौ करोड़ जनता के प्रतिनिधि हैं। वो किसी एक जाति या समुदाय के नेता नहीं हैं। जब पत्रकारों ने उनसे इस बारे में पूछा था तब अग्रवाल ने कहा था इस देश में हर शख्स की एक जाति है। उन्होंने यह भी कहा था कि अगर आपको आपकी जाति पता नहीं है तो एक बार चुनाव लड़ लीजिए, विपक्ष आपकी तीन पीढ़ियों का विवरण सामने लाकर दे देगी।

अग्रवाल ने पिछले साल भी राज्य सभा में गौरक्षा के नाम पर भीड़ द्वारा लोगों की हत्या किए जाने पर विवादित बयान देते हुए कहा था, “विस्की में विष्णु बसें, रम में श्रीराम। जिन में माता जानकी और ठर्रे में हनुमान।” उस वक्त भी इनके बयान पर खूह हंगामा मचा था। तब राज्य सभा के उपसभापति ने सदन के रिकॉर्ड से इनका बयान हटवा दिया था। पाक जेल में बंद कुलभूषण जाधव पर भी आपत्तिजनक टिप्पणी की थी और मीडिया से बातचीत में अग्रवाल ने कहा था कि पाकिस्तान कुलभूषण जाधव को आतंकवादी मानता है और उसी हिसाब से व्यवहार कर रहा है। भारत को भी आतंकवादियों के साथ कड़ा व्यवहार करना चाहिए। बता दें कि अग्रवाल साल 1989 तक कांग्रेस में भी रह चुके हैं। 1997 में उन्होंने जगदंबिका पाल के साथ मिलकर अखिल भारतीय लोकतांत्रिक कांग्रेस पार्टी बनाई थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App