ताज़ा खबर
 

राजनीति से दूर

नरेंद्र मोदी जिस तरह से पटेल, गांधी या किसी और नेता का नाम भुनाने का प्रयास कर रहे हैं उससे कुछ नहीं होना। मोहनदास करमचंद गांधी के विदेश में पढ़ाई या वकालत करके लौटने की तिथि का यदि कोई औचित्य होता तो पूर्व में उसके 25, 50 और 75 साल भी जरूर मनाए जाते। इसी […]

Author January 13, 2015 17:53 pm
गणतंत्र दिवस के मौके पर केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय की तरफ से जारी विज्ञापन में संविधान की प्रस्तावना को गलत तरीके से पेश किए जाने के पीछे की सरकारी मंशा अब उजागर होने लगी है (फ़ोटो-पीटीआई)

नरेंद्र मोदी जिस तरह से पटेल, गांधी या किसी और नेता का नाम भुनाने का प्रयास कर रहे हैं उससे कुछ नहीं होना। मोहनदास करमचंद गांधी के विदेश में पढ़ाई या वकालत करके लौटने की तिथि का यदि कोई औचित्य होता तो पूर्व में उसके 25, 50 और 75 साल भी जरूर मनाए जाते। इसी प्रकार यदि हम हर तारीख के चक्कर में पड़ गए तो 365 दिन ही हमारी स्वतंत्रता और उससे जुड़े किसी न किसी सेनानी से संबंधित हैं।

यदि हम एक को महत्त्व दें और दूसरे को नहीं तो उसका अपमान ही होगा। अच्छा हो, हम राजनीति से दिवंगत नेताओं को दूर रखें। यही उनका सबसे बड़ा सम्मान होगा।

यश वीर आर्य, नई दिल्ली

 

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करें- https://www.facebook.com/Jansatta

ट्विटर पेज पर फॉलो करने के लिए क्लिक करें- https://twitter.com/Jansatta

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App