ताज़ा खबर
 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करते हैं सिर्फ हवाई बातें: राहुल

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में आज कहा कि वह केवल हवा में बातें करते हैं और भ्रष्टाचार के मुद्दे पर मौन धारण किये हुए हैं..

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी (पीटीआई फोटो)

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में गुरुवार को कहा कि वे केवल हवा में बातें करते हैं और भ्रष्टाचार के मुद्दे पर मौन धारण किए हुए हैं जिससे आहिस्ते, आहिस्ते उनकी विश्वसनीयता घट रही है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री के कम बोलने का फायदा मुझे होगा।

राहुल ने पत्रकारों से कहा, ‘प्रधानमंत्री ने चुनाव के समय पूरे हिन्दुस्तान को यह भरोसा दिया था कि ‘न मैं खाऊंगा, और न खाने दूंगा’। प्रधानमंत्री के शब्द का वजन होता है। लेकिन जो इनके दिल में आता है, कह देते हैं। इनकी विश्वसनीयता आहिस्ते, आहिस्ते घट रही है’।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री के शब्दों का वजन होता है, जब प्रधानमंत्री कुछ कहते हैं तब जनता को लगता है कि कुछ कहा। लेकिन दुख की बात है कि प्रधानमंत्री हवा में बात करते हैं। कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा कि हमने प्रधानमंत्री से पूछा कि मोदी (ललित मोदी) के बारे में आप क्या सोचते हैं, कोई जवाब नहीं आया। हमने पूछा कि व्यापमं के बारे में क्या सोचते हैं, कोई जवाब नहीं आया। सुषमाजी के बारे में क्या सोचते हैं कोई जवाब नहीं आया। वे इस बारे में नहीं बोलते।

उन्होंने कहा, ‘हमारा उनको सुझाव है कि आप देश के प्रधानमंत्री है, भाजपा के नहीं। देश की आवाज सुनिए। एक्शन तो छोड़िए, आज सिर्फ यह बताइए कि आप सोचते क्या हैं। हमने स्पष्ट किया है कि इस्तीफे के बिना चर्चा नहीं। सुषमाजी ने आपराधिक कृत्य किया है, भगोड़े को हस्ताक्षर करके दे दिया। वहां के उच्चायोग को पता नहीं, वहां की सरकार को पता नहीं। भारत के एक मंत्री का इस तरह भगोड़े को मदद करना आपराधिक कृत्य है। राजस्थान की मुख्यमंत्री ने भी उसकी मदद की।

व्यापमं घोटाला मामले का जिक्र करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि 40 लोगों की मौत हुई है लेकिन उसके बारे में क्या प्रधानमंत्री एक शब्द भी नहीं बोल सकते। यह बात हम नहीं कह रहे हैं बल्कि देश की जनता इसके बारे में जानना चाहती है। कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा, ‘अगर प्रधानमंत्री नहीं बोल रहे हैं तब इससे मुझे ही फायदा है। देश की जनता ने सुषमाजी के नाम पर वोट नहीं दिया था बल्कि नरेंद्र मोदी पर भरोसा करके वोट दिया था। मुझे खुशी है कि जितना वो कम बोलेंगे, मुझे इसका फायदा होगा’।

उन्होंने कहा कि आज जो खेतों में, कारखानों में काम करते हैं, उन्हें लगता है कि उनसे गलती हो गई। उन्हें चुनाव के समय किए गए वादे खोखले लगते हैं। प्रधानमंत्री को इन सभी मुद्दों पर बताना चाहिए कि वे क्या सोचते हैं।

वहीं राहुल की टिप्पणी पर पलटवार करते हुए संसदीय कार्य मंत्री एम वेंकैया नायडू ने मीडिया से कहा कि विश्वसनीयता उस दल की समाप्त हुई है जो 440 से घटकर 44 सीट पर आ गई है और कांग्रेस पार्टी को इस विषय पर आत्मचिंतन करने की जरूरत है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App