ताज़ा खबर
 

बिहार चुनाव में हार के लिए मोदी जिम्मेदार नहीं: राजनाथ सिंह

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार को इन बातों को खारिज किया कि आरक्षण पर आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत की टिप्पणी का बिहार में राजग की..

Author नई दिल्ली | November 11, 2015 12:40 AM
राजनाथ सिंह। (फाइल फोटो)

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार को इन बातों को खारिज किया कि आरक्षण पर आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत की टिप्पणी का बिहार में राजग की चुनावी संभावनाओं पर नकारात्मक प्रभाव पड़ा है और साथ ही कहा कि महागठबंधन के सामाजिक समीकरण भाजपा नेतृत्व वाले गठबंधन पर भारी पड़े। अमित शाह पार्टी प्रमुख के रूप में छह साल और रहेंगे।

सिंह ने यह भी कहा कि राजग की शर्मनाक पराजय के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता। गृह मंत्री ने कहा- भागवत का बयान नुकसान पहुंचाने वाला नहीं था। यह कोई विवादास्पद बयान नहीं था। हम उस तरह से नहीं सोच सकते। उन्होंने सिर्फ यह कहा था कि आरक्षण जारी रहना चाहिए। राजनाथ सिंह ने यह बात तब कही जब उनसे पूछा गया कि क्या आरक्षण नीति की समीक्षा की वकालत किए जाने संबंधी आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के बयान का राजग की संभावनाओं पर नकारात्मक प्रभाव पड़ा।

HOT DEALS
  • Honor 8 32GB Pearl White
    ₹ 12999 MRP ₹ 30999 -58%
    ₹1500 Cashback
  • Moto C 16 GB Starry Black
    ₹ 5999 MRP ₹ 6799 -12%
    ₹0 Cashback

सिंह ने यहां दिवाली मिलन कार्यक्रम में संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि महागठबंधन का समाजिक समीकरण हम पर भारी पड़ा। गृह मंत्री से जब यह पूछा गया कि क्या प्रधानमंत्री भाजपा की पराजय की नैतिक जिम्मेदारी स्वीकार करते हुए इस्तीफा देंगे, तो उन्होंने कहा- यह किस तरह का सवाल है। यह भाजपा का नुकसान है, प्रधानमंत्री का नहीं। सिंह ने बिहार चुनाव में पराजय के मद्देनजर पार्टी प्रमुख अमित शाह को हटाए जाने की संभावनाओं को भी खारिज किया।

सिंह ने कहा- अमित शाह पार्टी प्रमुख के रूप में छह साल और रहेंगे। कोई रुकावट नहीं है। वास्तव में उन्हें खुद मेरे कार्यकाल का भी डेढ़ साल मिला है जब मैं पार्टी से सरकार में आ गया था। इसके बाद वे दो कार्यकाल (तीन-तीन साल) के हकदार हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा चुनाव में पार्टी की पराजय के हर पहलू की समीक्षा करेगी और उसी के अनुरूप कार्रवाई करेगी।

उन्होंने कहा, जीत और हार लोकतांत्रिक प्रक्रिया का हिस्सा है। हमने अतीत में चुनाव जीते हैं। हम अतीत में चुनाव हारे हैं। अगर हम सिर्फ एक चुनाव के आधार पर भविष्य के बारे में निर्णय करेंगे तो हम भविष्य के प्रति न्याय नहीं कर पाएंगे। गृह मंत्री ने बेहिचक यह स्वीकार किया कि चुनाव परिणामों से उन्हें हैरानी हुई क्योंकि अपनी खुद की 50 रैलियों के दौरान उन्होंने जनता की अच्छी उपस्थिति देखी थी। पार्टी के कुछ नेताओं के सांप्रदायिक तनाव फैलाने वाले विवादास्पद बयानों के बारे में पूछे जाने पर सिंह ने कहा- देश में अगर कोई धर्मनिरपेक्ष पार्टी है तो वह भाजपा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App