ताज़ा खबर
 

मोदी की इजरायल यात्रा पर शशि थरूर ने कहा, इससे दोनों देशों के बीच रिश्तों में परिपक्वता और नई ऊंचाईयां कायम होंगी

थरूर ने कहा, यह बेहद महत्‍वपूर्ण संबंध है, जिसको भारत को बनाए रखने की जरूरत है। मगर यह जरूर निश्चित करें कि यह फिलिस्‍तीन के साथ संबंधों की कीमत पर नहीं हो।
शशि थरूर ने फिलिस्‍तीन के साथ भारत के संबंधों को लेकर चिंता भी जताई है। (Photo: ANI)

भारत के प्रधानमंत्री तीन दिन के इजरायल दौरे पर हैं। पूर्व राजनयिक, पूर्व विदेश राज्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तीन दिवसीय इजरायल यात्रा की सराहना की है। उन्होंने इसे भारत-इजरायल के रिश्तों में परिपक्वता का नया स्तर करार दिया है। मगर साथ ही फिलिस्‍तीन के साथ भारत के संबंधों को लेकर चिंता भी जताई है। थरूर ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तीन दिवसीय इजरायल यात्रा दिखाती है कि भारत इजरायल के साथ अपने संबंध सुधारने के प्रयास कर रहा है। इसकी पहल प्रधानमंत्री मोदी ने की है। संभवत: इससे दोनों देशों के बीच रिश्तों में परिपक्वता और नई ऊंचाईयां कायम होंगी। थरूर ने यह भी कहा कि विदेश मंत्रालय को इस तथ्‍य पर जरूर विचार-विमर्श करना चाहिए कि प्रधानमंत्री मोदी इजरायल का दौरा कर रहे हैं, मगर फिलिस्‍तीन का नहीं। उन्‍होंने कहा, यह बेहद महत्‍वपूर्ण संबंध है, जिसको भारत को बनाए रखने की जरूरत है। मगर यह जरूर निश्चित करें कि यह फिलिस्‍तीन के साथ संबंधों की कीमत पर नहीं हो।

गौरतलब है कि पीएम मोदी मंगलवार (4 जुलाई) को तीन दिन के इजरायल दौरे पर गए हैं। वे इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के न्यौते पर वहां गये हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 70 साल के इतिहास में इजरायल जाने वाले पहले भारतीय प्रधानमंत्री हैं। इजरायल से पहले फिलीस्तीन जाने की परंपरा को तोड़ते हुए प्रधानमंत्री ने यह निर्णय लिया है। भारत ने 1950 में इजरायल को मान्यता दी थी, लेकिन उससे कूटनीतिक संबंध नहीं रखे। हालांकि राजनयिक संबंध न होने के बावजूद इजरायल के साथ भारत के सामरिक रिश्ते बेहतर रहे।

1962, 1965 और 1971 में जंग के वक्त इजरायल ने भारत को आधुनिक सैन्य साजोसामान की आपूर्ति की थी। 1985 में भारत के प्रधानमंत्री रहे राजीव गांधी ने अमेरिका में इजरायली समकक्ष शिमोन पेरेज से मुलाकात की थी। बाद में 1992 में तत्कालीन प्रधानमंत्री नरसिंह राव ने इजरायल के साथ कूटनीतिक संबंधों की शुरुआत की। 2015 में राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने इजरायल की यात्रा की थी। ऐसा करने वाले वह देश के पहले राष्ट्रपति हैं। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने भी कुछ महीने पहले इजरायल का दौरा किया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.