ताज़ा खबर
 

शौरी की टिप्पणियों को केंद्र ने बताया ‘निजी राय’

अरुण शौरी की ओर से राजग सरकार की आर्थिक नीतियों की आलोचना को केंद्र ने खारिज करते हुए कहा कि यह उनकी निजी राय है जो लोगों के सोच से अलग है..

Author नई दिल्ली | October 28, 2015 1:44 AM
पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी।

पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी की ओर से राजग सरकार की आर्थिक नीतियों की आलोचना को केंद्र ने मंगलवार को खारिज करते हुए कहा कि यह उनकी निजी राय है जो लोगों के सोच से अलग है। शौरी ने सरकार की नीतियों की तुलना कांग्रेस से करते हुए सोमवार को कहा था कि नीतियां समान हैं, बस एक गाय का मुद्दा जुड़ गया है।

केंद्रीय शहरी विकास मंत्री वेंकैया नायडू ने कहा कि लोगों को उन चुनौतियों के बारे में जानकारी है जो राजग सरकार को विरासत में मिली हैं। उन्होंने कहा कि सरकार में कोई घोटाला नहीं हुआ। यहां तक कि कोई गलती भी नहीं हुई। नायडू ने कहा- हम लोकतांत्रिक देश हैं, शौरी को अपनी राय रखने का हक है। लेकिन देश की राय अलग है। उन्होंने कहा कि देश के सभी हिस्सों के लोग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का समर्थन कर रहे हैं और भाजपा एक के बाद एक चुनाव जीत रही है।

सोमवार को अरुण शौरी ने मोदी सरकार पर तीखे हमले में कहा था कि उसका (सरकार का) मानना है कि अर्थव्यवस्था का प्रबंध करने का मतलब सुर्खियों का प्रबंध करना है और लोगों ने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के दिनों को याद करना शुरू कर दिया है। शौरी ने एक पुस्तक विमोचन के कार्यक्रम में कहा था- अब डा. सिंह को लोग याद करने लगे हैं। सरकार की नीतियां बनाने का तरीका कांग्रेस (जैसा) है। बस एक गाय का मुद्दा जुड़ गया है। नीतियां समान हैं।

आवास और शहरी गरीबी उन्मूलन मंत्रालय की ओर से आयोजित एक कार्यक्रम के इतर नायडू ने संवाददाताओं से कहा कि हाल में घटित घटनाओं से भारत सरकार का कोई लेना-देना नहीं है और कुछ लोग बिना वजह उनको उठा रहे हैं और देश को बदनाम करने की कोशिश कर रहे हैं।

नायडू ने कहा कि कुछ लोगों ने इधर-उधर टिप्पणियां की होंगी, लेकिन पार्टी ने उनसे खुद को अलग कर लिया, सरकार ने खुद को अलग कर लिया। उन्होंने कहा कि यहां तक कि प्रधानमंत्री भी मुद्दे पर अपने विचार स्पष्ट कर चुके हैं। विपक्षी पार्टियां दादरी में एक व्यक्ति की पीट-पीट कर हत्या करने जैसी घटना को लेकर सरकार की आलोचना कर रही हैं। उनका कहना है कि यह बढ़ती असहिष्णुता का द्योतक है।

नायडू ने कहा कि सरकार का एजंडा सिर्फ विकास है और लोगों से कहा कि वे राजनीतिक विरोधियों के दुष्प्रचार के झांसे में न आएं। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि कुछ लोग कह रहे हैं कि असहिष्णुता बढ़ गई है। जी हां, लोगों के जनादेश को स्वीकार नहीं करने की वजह से विपक्ष असहिष्णु हो गया है।

जब नायडू से शौरी की इस टिप्पणी के बारे में पूछा गया कि उन्हें लगता है कि अब से कमजोर पीएमओ पहले कभी नहीं था, तो नायडू ने कहा कि इस पर चर्चा करने की जरूरत नहीं है, क्योंकि कुछ लोग कहते हैं कि प्रधानमंत्री बहुत शक्तिशाली हैं जबकि अन्य कहे रहे हैं कि वे कमजोर हैं।

कांग्रेस पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा कि पार्टी ने झूठ के आधार पर वर्षों शासन किया और वह आधारहीन आरोप लगा रही है। देश में विभाजनकारी प्रवृत्तियां कांग्रेस की गलत नीतियों का नतीजा है।

लगातार ब्रेकिंग न्‍यूज, अपडेट्स, एनालिसिस, ब्‍लॉग पढ़ने के लिए आप हमारा फेसबुक पेज लाइक करेंगूगल प्लस पर हमसे जुड़ें  और ट्विटर पर भी हमें फॉलो करें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App