ताज़ा खबर
 

‘क्रोनी कैपिटलिस्ट्स’ का टैक्स किया माफ, फिर भी मोदी सरकार कहती है गरीबों के लिए पैसे नहीं- राहुल गांधी का वार

आगे कोरोना संकट का उल्लेख करते हुए राहुल गांधी ने कहा, ‘‘पिछले तीन महीनों में कोरोना ने भारत की अर्थव्यवस्था को नष्ट कर दिया है। बहुत नुकसान हुआ है। सबसे ज्यादा नुकसान गरीबों, मजदूरों, मध्य वर्ग और वेतनभोगी वर्ग को हुआ है।’’

Author नई दिल्ली | Updated: June 30, 2020 6:07 PM
China, Coronavirus, COVID-19, Narendra Modi, NDA Govt, Taxकांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी। (फोटोः टि्वटर स्क्रीनग्रैब)

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के राष्ट्र के नाम संबोधन से पहले मंगलवार को कहा कि प्रधानमंत्री को देश को बताना चाहिए कि वह ‘भारतीय क्षेत्र में बैठे’ चीन के सैनिकों के कब और कैसे बाहर निकालेंगे। उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी से यह आग्रह भी किया कि कोरोना संकट के कारण परेशानी का सामना कर रहे गरीबों, मध्यम वर्ग और वेतनभोगी वर्ग को राहत देने के लिए ‘न्यूनतम आय गारंटी योजना’ (न्याय) की तर्ज पर छह महीने के लिए कोई योजना आरंभ करें।

गांधी ने एक वीडियो संदेश में कहा, ‘‘ पूरा देश जानता है कि चीन ने भारत की पवित्र जमीन छीनी हुई है। हम सभी जानते हैं कि चीन लद्दाख में चार जगह बैठा हुआ है। नरेंद्र मोदी जी देश को बताइए कि आप चीन की फौज को कब और कैसे बाहर निकालेंगे?’’

आगे कोरोना संकट का उल्लेख करते हुए राहुल गांधी ने कहा, ‘‘पिछले तीन महीनों में कोरोना ने भारत की अर्थव्यवस्था को नष्ट कर दिया है। बहुत नुकसान हुआ है। सबसे ज्यादा नुकसान गरीबों, मजदूरों, मध्य वर्ग और वेतनभोगी वर्ग को हुआ है।’’

वह बोले, ‘‘ हमने सरकार को सुझाव दिया था कि ‘न्याय’ योजना की तरह छह महीने के लिए लोगों के खातों में पैसे डालिए। इससे मांग बढ़ेगी और अर्थव्यवस्था में तेजी आएगी। सरकार ने मना कर दिया। तीन चार बार उन्होंने मना कर दिया।’’

कांग्रेसी नेता ने कहा, ‘‘सरकार का कहना था कि पैसा नहीं है। जबकि सरकार ने 15 20 पूंजीपतियों के कर्ज माफ कर दिए। हाल में पेट्रोल और डीजल के दाम 22 बार बढ़ाए। सरकार के पास तीन लाख करोड़ रुपये पड़े हैं। इसलिए हमारी मांग है कि न्याय योजना जैसी योजना को लागू किया जाए।’’ उन्होंने कहा, ‘‘उम्मीद है देश हित में इन सुझावों को प्रधानमंत्री ज़रूर मानेंगे। यही सच्ची देश सेवा और राष्ट्र भक्ति है।’’

बता दें कि लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर भारत और चीन के बीच गतिरोध चल रहा है। गत 15-16 जून की रात दोनों देशों के सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प में 20 भारतीय जवान शहीद हो गए थे। चीनी पक्ष को भी नुकसान उठाना पड़ा था।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 NaMo App पर भी लगे प्रतिबंध, चोरी-छिपे थर्ड पार्टी US कंपनियों को पहुंचा देती है डेटा- Tiktok सहित 59 चीनी ऐप्स बैन के बाद कांग्रेसी पूर्व CM की मांग
2 Coronavirus Vaccine, Medicine HIGHLIGHTS: रामदेव और राज्य-केंद्र को उत्तराखंड HC से नोटिस, कहा- एक हफ्ते के भीतर दें जवाब
3 पत्नी के ‘सिंदूर’ नहीं लगाने और ‘चूड़ी’ पहनने से इनकार पर अदालत ने दी पति को तलाक की अनुमति