ताज़ा खबर
 

मोदी ‘धर्मांतरण’ मुद्दे पर अपना रुख स्पष्ट करें: केजरीवाल

आम आदमी पार्टी के मुखिया अरविन्द केजरीवाल ने जबरन धर्मांतरण के मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से जवाब मांगते हुए कहा कि जनता के लिए इस मुद्दे पर उनकी राय जानना जरूरी है। केजरीवाल ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘प्रधानमंत्री को धर्मांतरण के मुद्द पर अपना रुख और दृष्टिकोण स्पष्ट करना चाहिए कोई विपक्ष के […]

Author December 20, 2014 5:08 PM
14 फरवरी 2015 को जब रामलीला मैदान में केजरीवाल के मंत्रिमंडल का स्वरूप देखा तो बहुत से लोगों, खासकर उनके समर्थकों को भी थोड़ा आश्चर्य हुआ। हालांकि केजरीवाल के अलावा मनीष सिसौदिया और सतेंद्र जैन पहले मंत्रिमंडल में भी थे और उनके कार्य को सराहा गया था।

आम आदमी पार्टी के मुखिया अरविन्द केजरीवाल ने जबरन धर्मांतरण के मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से जवाब मांगते हुए कहा कि जनता के लिए इस मुद्दे पर उनकी राय जानना जरूरी है।

केजरीवाल ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘प्रधानमंत्री को धर्मांतरण के मुद्द पर अपना रुख और दृष्टिकोण स्पष्ट करना चाहिए कोई विपक्ष के साथ सत्तारूढ़ दल की भूमिका नहीं निभा सकता। जनता उनका रुख जानना चाहती है।’’

दिल्ली के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि भाजपा विकास का वादा करके लोकसभा का चुनाव जीतकर सरकार बना चुकी है, लेकिन वह अपने वादों को पूरा करने में नाकाम रही है।
केजरीवाल ने कहा, ‘‘वह विकास के आधार पर जीते। उन्होंने वादा किया था कि ‘अच्छे दिन’ आएंगे। पिछले छह महीने में वह लव जिहाद और धर्मांतरण के बारे में बात कर रहे हैं। विकास कहां है?’’

उन्होंने कहा कि दिल्ली में पिछले तीन दशक से अधिक समय से सांप्रदायिक दंगे नहीं हुए थे, लेकिन भाजपा के सत्ता में आने के बाद सांप्रदायिक दंगे हुए। उन्होंने कहा कि अगर जनता को पता होता कि यह सब होने वाला है तो उसने इसे कभी वोट नहीं दिया होता।

आम आदमी पार्टी के नेता से जब पूछा गया कि क्या उनकी पार्टी यदि सत्ता में आई तो धर्मांतरण विरोधी कानून की हिमायत करेगी, तो उन्होंने टिप्पणी करने से इंकार कर दिया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App