ताज़ा खबर
 

नरेंद्र मोदी के 67वें जन्‍मदिन पर अमित शाह ने लिखा ब्‍लॉग, अंबेडकर, पटेल से कर डाली तुलना

मोदी के साथ अपने दशकों पुराने साथ को याद करते हुए शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री ने कभी अपना जन्मदिन नहीं मनाया।

Author Updated: September 17, 2017 6:18 PM
prashant kishor, PM narendra modi, amit shah, chunav results, chunav result 2017, chunav, up chunav, up chunav result, up chunav 2017, up chunav result 2017, vidhan sabha chunav result, vidhan sabha chunav result, up chunav nateje, manipur chunav result, uttarakhand chunav result, goa chunav result, punjab chunav result, candidates list, vidhan sabha chunav candidates, up chunav winning candidates list, latest updates electionsबीजेपी के लिए सबसे निराशाजनक प्रदर्शन सौराष्ट्र और कच्छ इलाके में रहा, जहां की 54 सीटों में से बीजेपी को मात्र 23 सीटें मिलीं। (File Photo)

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सरदार पटेल और बीआर अंबेडकर के समकक्ष रखते हुए कहा कि पटेल ने देश का क्षेत्रीय एकीकरण किया था, अंबेडकर ने सामाजिक एकीकरण किया था और अब मोदी ने भारत का आर्थिक एकीकरण शुरू कर दिया है। प्रधानमंत्री के 67वें जन्मदिन के अवसर पर उनकी प्रशंसा करते हुए शाह ने कहा कि मोदी का जीवन कई मायनों में भारत की विचारधारा का साकार रूप है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री की गरीबों की आकांक्षाओं के प्रति संवेदनशीलता के चलते ही गरीबी उन्मूलन के ऐतिहासिक कदम उतने बड़े स्तर पर आकार ले रहे हैं, जिसके बारे में भारत के इतिहास में कभी सुना ही नहीं गया। शाह ने कहा कि मोदी सरकार में ईमानदार करदाताओं, जिनमें अधिकतर मध्यम वर्ग से ताल्लुक रखते हैं, को लगता है कि कालेधन और भ्रष्टाचार पर नोटबंदी और बेनामी संपत्ति कानून जैसे विभिन्न कदमों के साथ की गयी कार्रवाई के बाद उनकी अहमियत बढ़ी है। पिछले दिनों आरबीआई ने बताया था कि नोटबंदी के बाद 99 प्रतिशत पुराने नोट बैंकों में जमा हो गये, जिसके बाद विपक्षी दलों ने इस कदम को लेकर सरकार के दावों की तीखी आलोचना की, लेकिन भाजपा का कहना है कि इस कदम से पारर्दिशता बढ़ी है और संगठित अर्थव्यवस्था का विस्तार हुआ है।

शाह ने एक ब्लॉग में लिखा, ‘‘भारत सरदार पटेल को हमारे देश के क्षेत्रीय एकीकरण के लिए याद करता है और हम सामाजिक एकीकरण में बाबासाहब अंबेडकर की भूमिका को याद करते हैं। इसी तरह जनधन योजना से लेकर जीएसटी तक विभिन्न पहलों के साथ नरेंद्र भाई ने भारत के आर्थिक एकीकरण की शुरूआत कर दी है।’’ प्रधानमंत्री के आलोचकों पर निशाना साधते हुए भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि मोदी ने भ्रष्टाचार और यथास्थिति के खिलाफ कई कदम उठाये हैं। अंतत: कुछ चुनिंदा लोगों के विशेषाधिकार का समय अब गुजर गया है और गरीबों को उनका हिस्सा मिल रहा है।

मोदी के साथ अपने दशकों पुराने साथ को याद करते हुए शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री ने कभी अपना जन्मदिन नहीं मनाया। ‘प्रधान सेवक’ मोदी का जन्मदिन मनाने का सर्वश्रेष्ठ तरीका ‘सेवा’ है। उन्होंने कहा कि मोदी का दिल गरीबों, वंचितों, शोषितों और देश के किसानों के लिए धड़कता है। शाह ने कहा कि गरीबों के कल्याण के लिए प्रधानमंत्री की गहरी चिंता ने उन्हें बहुत कम उम्र से राष्ट्रनिर्माण में सर्मिपत होने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने ब्लॉग में लिखा, ‘‘इंडिया फर्स्ट एक विचार है जो नरेंद्र भाई ने अपने जीवन के हर क्षण में जिया है।’’

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि लोग मोदी को करुणामयी नेता के तौर पर देखते हैं। उन्होंने कहा, ‘‘लोग उन्हें अपना समझते हैं, ऐसा व्यक्ति समझते हैं जो उनके और राष्ट्र के कल्याण के लिए निस्वार्थ 24 घंटे काम कर रहा है। उनकी लोकप्रियता सारी सीमाएं पार कर चुकी है।’’ शाह ने कहा कि वह सबसे पहले मोदी से युवा भाजपा कार्यकर्ता के रूप मे मिले थे और दोनों में से कोई भी सत्ता में नहीं था क्योंकि तब भाजपा उतनी बड़ी शक्ति नहीं थी जितनी आज बन गयी है। लेकिन महत्वपूर्ण बात यह थी कि दोनों ने अपना हर क्षण भारत के कल्याण के लिए लगा दिया।

उन्होंने देश के भले के लिए मोदी के संकल्प और प्रतिबद्धता को रेखांकित करते हुए मुद्रा योजना, जनधन खातों, र्सिजकल स्ट्राइक तथा नोटबंदी का जिक्र किया और कहा, ‘‘हम देश की सेवा करते रहेंगे और उनका साथ देते रहेंगे ताकि वह भारत को सफलता और गौरव की नयी ऊंचाइयों पर ले जाएं।’’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 रेलवे ने ट्रेनों में सोने का समय बदला, अब एक घंटा कम सो पाएंगे रेल यात्री
2 रेलवे ने बदले IRCTC से तत्‍काल टिकट बुक करने के नियम, ये है बुकिंग का नया तरीका
3 नरेंद्र मोदी का 67वां जन्मदिन: पीएम ने किया सरदार सरोवर बांध का उद्घाटन
ये पढ़ा क्या?
X