ताज़ा खबर
 

वार-रूम है तैयार, मोदी-शाह सोच चुके हैं राष्ट्रपति उम्मीदवार? 15 जून को सामने आ सकता है नाम

भारत के अगले राष्ट्रपति के लिए 17 जुलाई को चुनाव होगा। चुनाव नतीजे 20 जुलाई को आएंगे।

भाजपा की राष्‍ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के पहले दिन प्रधानमंत्री मोदी व पार्टी अध्‍यक्ष अमित शाह। (Source: PTI)

भारत के अगले राष्ट्रपति के लिए 17 जुलाई को चुनाव होगा। चुनाव नतीजे 20 जुलाई को आएंगे। अभी तक सत्ताधारी भाजपा नीत गठबंधन एनडीए या विपक्षी कांग्रेस नीत गठबंधन यूपीए ने राष्ट्रपति पद के लिए उम्मीदवार की घोषणा नहीं की है। हालांकि मीडिया रिपोर्ट की मानें तो प्रधानमंत्र नरेंद्र मोदी और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की कुछ अंतिम नामों पर सहमति बन चुकी है। रेडिफ डॉट कॉम की रिपोर्ट के अनुसार वित्त मंत्री अरुण जेटली और परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने पत्रकारों के संग हुई एक अनौचपचारिक बातचीत में माना कि पीएम मोदी और शाह के जहन में कुछ नाम हैं। रिपोर्ट के अनुसार पीएम नरेंद्र मोदी भाजपा के गठबंधन दलों से पार्टी के होने वाले उम्मीदवार के लिए समर्थन भी मांग चुके हैं।

मोदी मई के शुरुआत में वाईएस जगन मोहन रेड्डी से हुई मुलाकात में वाईएसआर कांग्रेस के समर्थन का आश्वासन ले चुके हैं। पीएम मोदी एआईएडीएमके (ओ) के ओ पन्नीरसेल्वम और एआईएडीएमके के नेता और तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ई पलानीस्वामी से भी मुलाकात कर चुके हैं और समर्थन का भरोसा हासिल कर चुके हैं। पीएम मोदी तेलुगु देशम पार्टी के चंद्रबाबू नायडू से भी मुलाकात करके उनसे समर्थन की हामी भरवा चुके हैं।

मौजूदा राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का कार्यकाल 24 जुलाई को खत्म हो रहा है। 25 जुलाई को नए राष्ट्रपति शपथ लेंगे। रिपोर्ट के अनुसार अमित शाह ने राष्ट्रपति चुनाव के लिए लोक सभा चुनाव और विधान सभा चुनाव जैसी तैयारी कर रखी है। शाह ने भाजपा के तीन महासचिवों और पांच युवा इलेक्ट्रानिक मीडिया विशेषज्ञों की एक टीम बनाई है जो राष्ट्रपति चुनाव की तैयारी तक काम करेगी।

संसदीय मामलों के मंत्री अनंत कुमार को भाजपा के सहयोगी दलों से राष्ट्रपति चुनाव के लिए तालमेल बैठाने की जिम्मेदारी दी गई है। भाजपा संसदीय दल के चीफ व्हिप राकेश सिंह अनंत कुमार के सहयोगी के तौर पर काम करेंगे। रिपोर्ट के अनुसार अनंत कुमार सहयोगी दलों के विधायकों, सांसदों और मुख्यमंत्रियों से भाजपा के  राष्ट्रपति उम्मीदवार की मुलाकात सुनिश्चित कराएंगे।

शाह ने केंद्रीय मंत्रियों धर्मेंद्र प्रधान, राजीव प्रताप रुडी, निर्मला सीतारमन और पार्टी महासचिव भूपेंद्र यादव को अपनी कोर टीम में शामिल किया है। शाह की कोर टीम भाजपा के एमपी, एमएलए, मुख्यमंत्रियों और विधायक दलों के नेताओं से तालमेल बैठाएगी। अभी पिछले ही महीने अमित शाह ने नागपुर में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत और भैयाजी जोशी के संग एक घंटे मुलाकात की थी। रिपोर्ट के अनुसार शाह ने संघ के शीर्ष दो नेताओं से राष्ट्रपति उम्मीदवार के नाम पर चर्चा की थी।

राष्ट्रपति चुनाव 2017 बेहद करीब है। चुनाव को लेकर राजनीतिक दलों में सुगबुगाहट तेज हो गई है। नए राष्ट्रपति के नाम को लेकर सभी बैठकें और विचार-विमर्श में जुटे हैं। तो आइए जानते हैं कि इस बार के चुनाव में दिख सकती है कुछ इस तरह की तस्वीर।

हालांकि नाम भले ही मोदी और शाह के जहन में चल रहे हों लेकिन 15 जून को पार्टी की ससंदीय दल की बैठक में राष्ट्रपति उम्मीदवार के नाम पर अंतिम मुहर लगायी जा सकती है। 15 जून के बाद राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार को अनंत कुमार 10-15 वरिष्ठ सांसदों के संग अलग-अलग राज्यों का दौरा कराएंगे।

राष्ट्रपति चुनाव की बात सुनने और देखने में जितनी आसान लगती है, असल में यह उतनी ही टेढ़ी खीर है। देश की सबसे ताकतवर कुर्सी के लिए जनता मतदान नहीं करती। जी हां, राष्ट्रपति को सीधे तौर पर लोग खुद नहीं चुन सकते। राष्ट्रपति चुनाव की प्रक्रिया में विधायक और सांसद वोट देते हैं। ऐसे गिने जाते हैं उनके मत।

वीडियो- लालकृष्ण आडवाणी हो सकते हैं देश के अगले राष्ट्रपति; पीएम मोदी ने सुझाया नाम

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App