ताज़ा खबर
 

जस्टिस काटजू बोले- 2016 में आ सकती है वैश्विक मंदी, नए साल में जताई भारत में फ्रांस जैसी क्रांति की इच्‍छा

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज मार्कंडेय काटजू ने 'स्‍क्रॉल डॉट इन' में 'My 2016 wishlist' नाम के कॉलम में लेख लिखा है। इसमें उन्‍होंने इच्‍छा जाहिर की है कि भारत में भी फ्रांस जैसी क्रांति हो।

Author नई दिल्‍ली | January 1, 2016 6:47 PM
जस्टिस काटजू ने अपने लेख का लिंक फेसबुक वॉल पर भी शेयर किया है। इसमें भी उन्‍होंने भारत में फ्रांस जैसी क्रांति की इच्‍छा जताई है।

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज मार्कंडेय काटजू ने ‘स्‍क्रॉल डॉट इन’ में ‘My 2016 wishlist’ नाम के कॉलम में लेख लिखा है। इसमें उन्‍होंने इच्‍छा जाहिर की है कि भारत में भी फ्रांस जैसी क्रांति हो। काटजू ने इस लेख का लिंक अपने फेसबुक पेज भी शेयर किया है। अपनी फेसबुक वॉल पर उन्‍होंने लिखा, ‘2016 में मेरी एक ही इच्‍छा है। मैं आंदोलन होते देखना चाहता हूं, जो कि फ्रांस की क्रांति जैसा हो। इस देश में सबकुछ ध्‍वस्‍त हो गया है। सभी संस्‍थान जोक बन गए हैं। मैं क्रांति होते देखना चाहता हूं।

उन्‍होंने आर्टिकल यह भी लिखा है कि वह नए साल में क्‍या-क्‍या होने की उम्‍मीद रखते हैं

बेरोजगारी, महंगाई, किसान हत्‍या और स्‍वास्‍थ्‍य सुविधाओं की कमी के खिलाफ पूरे देश में प्रदर्शन होंगे

‘बजट सेशन’ में संसद का कामकाज बाधित होगा

बेरोजगारी, महंगाई बढ़ने की वजह से अपराध भी बढ़ेगा। बिहार में अपहरण, फिरौती करने वाले वापस सक्रिय हो ही गए हैं

अधिकतर बिजनेस बंद हो जाएंगे और पूरे विश्‍व में आर्थिक मंदी आएगी

जस्टिस काटजू ने अपने लेख में शास्‍त्रों का भी जिक्र किया है। उन्‍होंने लिखा, ‘शास्‍त्रों में चार युगों का जिक्र है। सतयुग, त्रेतायुग, द्वापर और कलियुग। इसमें कलियुग के बारे में कुछ बातें लिखी गई हैं, जो इस प्रकार हैं-‘

1- कलियुग में लोग सिर्फ पैसे के पीछे भागेंगे

2- कलियुग में लोग एक-दूसरे की मदद नहीं करेंगे, यहां तक कि अपने करीबियों की भी

3- कलियुग में लोग बड़ी संख्‍या में आत्‍महत्‍या करेंगे

जस्टिस काटजू ने इस प्रकार की कई और बातें लिखी हैं और फिर अंत में उन्‍होंने देश में क्रांति की इच्‍छा जताई है।

Read Also:

साल बदलते ही लागू हो गए आप पर असर डालने वाले ये 10 बड़े बदलाव 

2016 में इन 16 सवालों के जवाब दिए तो बिहार जैसी हार से बच सकते हैं मोदी

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App