'योग-सूर्य नमस्कार-वंदे मातरम' से मुस्लिम आस्था को खतरा: AIMPLB - Jansatta
ताज़ा खबर
 

‘योग-सूर्य नमस्कार-वंदे मातरम’ से मुस्लिम आस्था को खतरा: AIMPLB

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने मुस्लिम और दूसरे धर्म के लोगों के लिए खतरे का आरोप लगाते हुए कहा कि वह धर्म और भारतीय संविधान को ‘बचाने’ के लिए राष्ट्रव्यापी...

Author हैदराबाद | September 6, 2015 11:08 AM
लॉ बोर्ड के नेताओं ने आरोप लगाया कि जो लोग सत्ता में हैं, उनकी मदद से ‘सांप्रदायिकता’ बढ़ रही है और इसका सिर्फ मुस्लिम समुदाय पर नहीं बल्कि दूसरी धार्मिक और सांस्कृतिक धाराओं पर भी विपरीत प्रभाव होगा। (पीटीआई फाइल फोटो)

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने मुस्लिम और दूसरे धर्म के लोगों के लिए खतरे का आरोप लगाते हुए कहा कि वह धर्म और भारतीय संविधान को ‘बचाने’ के लिए राष्ट्रव्यापी अभियान चलाएगा।

मौलाना खलीलुर रहमान सज्जाद नोमानी तथा बोर्ड के दूसरे नेताओं ने शनिवार को यहां कहा, ‘‘भारत एक धर्मनिरपेक्ष लोकतांत्रिक देश है। भारतीय संविधान धर्म की स्वतंत्रता की गारंटी देता है। अब मुस्लिम आस्था और संस्कृति को खतरा है क्योंकि योग, सूर्य नमस्कार, वंदे मातरम के जरिए एक विशेष धार्मिक संस्कृति को थोपने की कोशिशें की जा रही हैं।’’

उन्होंने दावा किया कि कानून में संशोधन और बदलाव के प्रयास भी किए जा रहे हैं। राजग सरकार का नाम लिए बगैर पर्सनल लॉ बोर्ड के नेताओं ने आरोप लगाया कि जो लोग सत्ता में हैं, उनकी मदद से ‘सांप्रदायिकता’ बढ़ रही है और इसका सिर्फ मुस्लिम समुदाय पर नहीं बल्कि दूसरी धार्मिक और सांस्कृतिक धाराओं पर भी विपरीत प्रभाव होगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App