ताज़ा खबर
 

मुस्लिम परिवार ने मनाया गाय का Birthday

दादरी हत्याकांड के जहां एक देशभर में बीफ पर बैन चर्चाएं चल रही हैं तो वहीं दूसरी ओर उत्तर प्रदेश के एक मुस्लिम परिवार ने ऐसा काम किया जिसे सुनकर हिंदु भी प्रेरित होंगे।

Author नई दिल्ली | Updated: October 23, 2015 1:03 PM
(File Pic)

दादरी हत्याकांड के जहां एक देशभर में बीफ पर बैन चर्चाएं चल रही हैं तो वहीं दूसरी ओर उत्तर प्रदेश के एक मुस्लिम परिवार ने ऐसा काम किया जिसे सुनकर हिंदु भी प्रेरित होंगे।

जी हां, हापुड़ के एक मुस्लिम परिवार ने एक अनोखी मिसाल पेश की है, सिकंदर गेट कॉलोनी के रहने वाले इस परिवार ने एक साल पूरा चुकी गाय का जन्मदिन मनाया। इतना ही नहीं परिवार वालों ने इस इस गाय का जूली रखा है।

एक इंग्लिश समाचार के मुताबिक हापुर के मुस्लिम परिवार ने अपनी लाड़ली गाय जूली के जन्मदिन सेलिब्रेट करने के लिए खास इंतजाम किया। जन्मदिन के अवसर पर परिवार ने 10 किलो का विदआउट एग केक मंगवाया गया और बाद में जूली को बर्थेडे कैप भी पहनाया गया। इस अवसर पर परिवार ने अपने खास मेहमानों को भी इनवाइट किया और उन्हें केक और मिठाई खिलाई।

नोएडा के एक के केमिकल वेस्ट मैनेजमेंट कंपनी में काम करने वाले 29 साल के मोहम्मद इरशाद ने बताया कि जूली और उसकी मां भोली उनके परिवार के सदस्य की तरह हैं। जिस तरह से वे अपने बच्चों का ख्याल रखते हैं वैसे ही उन दोनों का भी ख्याल रखते हैं। जब जूली के जन्मदिन का समय आया तो वे कुछ बड़ा करना चाहते थे। इसके लिए वे पहले से योजना बनाने लगे और जन्मदिन के लिए 100 से अधिक लोगों को निमंत्रित किया।

उन्होंने बताया कि जन्मदिन के लिए बिना अंडे वाला वनीला केक का ऑर्डर दिया था। गेस्ट जूली के लिए के लिए उपहार भी लेकर आए थे। जूली को फल काफी पसंद है इसलिए उनके दोस्त तरबूज और केला लेकर आए थे। जूली के जन्मदिन पार्टी पर 40 हजार रुपए खर्च किए गए।

यह परिवार लगभग 40 सालों से गाय पाल रहा है। इरशाद के पिता हाजी अब्दुल गनी को गायों से काफी लगाव है इसलिए इस परिवार में 2008 से गौ वंश के नामकरण और जन्मदिन मनाने की एक परंपरा सी चल पड़ी।

यकीनन इस मुस्लिम परिवार ने जो किया बाकई काबिले तारीफ है, जहां कई मुस्लिम गाय के मास को अपनी अजीविका मानते हैं, वहीं ये परिवार अपनी जूली को अपने परिवार का सदस्या मानते हैं और उन्हें पूजते भी हैं।

लगातार ब्रेकिंग न्‍यूज, अपडेट्स, एनालिसिस, ब्‍लॉग पढ़ने के लिए आप हमारा फेसबुक पेज लाइक करें, गूगल प्लस पर हमसे जुड़ें  और ट्विटर पर भी हमें फॉलो करें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories