ताज़ा खबर
 

मदरसा, जहां मर्दों का जाना है ‘वर्जित’, मोबाइल और टीवी पर भी है बैन

मुंबई में एक ऐसा मदरसा है जिसे लड़कियों के ध्यान में रखकर बनाया गया है।

तस्वीर का इस्तेमाल प्रतिकात्मक रूप से किया गया है।

मुंबई में एक ऐसा मदरसा है जिसे लड़कियों के ध्यान में रखकर बनाया गया है। उसमें मोबाइल, टीवी के साथ-साथ मर्दों के जाने पर भी पाबंदी है। यह मदरसा थाणे के मुंबरा में है। उसका नाम Al-Jamiah Al-Islamiya है। वहां पर टीचरों को भी फोन लेकर नहीं जाने दिया जाता। टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक, वहां पर पिछले पांच साल सालों से पढ़ रही मेहताब जुबेर खान ने बताया कि उसे वहां काफी अच्छा लगता है। वह 18 साल की है और चौथी क्लास तक को-ऐड स्कूल में पढ़ी है। महताब को किसी अनजान शख्स के सामने कम कपड़े पहनने की इजाजत नहीं है। उसने कहा, ‘मुझे यहां काफी अच्छा लगता है। मैं आजाद सा महसूस करती हूं क्योंकि यहां कोई लड़का नहीं होता। यहां कोई ऐसा नहीं होता जो हमारा शरीर देख सकता हो।’ महताब के घरवालों को भी उससे सीधे मिलने नहीं दिया जाता। उसके घरवालों को वहां पहुंचकर पहले प्रशासन से इजाजत लेनी पड़ती है। फिर महताब अंदर एक छोटे से कमरे में आती है और आर-पार दिखने वाले शीशे के सामने बैठकर अपने घरवालों से बात करती है।

उस मदरसे में लड़के भी पढ़ते हैं। लेकिन उनके लिए अलग से ब्लॉक बनाया गया है। गौरतलब है कि देश में 35,000 से ज्यादा मदरसे हैं। लेकिन उनमें से आठ या दस प्रतिशत ही ऐसे हैं जिनमें लड़कियां हों। महताब उन 800 लड़कियों में से हैं जो Al-Jamiah Al-Islamiya में पढ़ती हैं। Al-Jamiah Al-Islamiya को 25 साल पहले अब्दुल हकीम ए सलाम अल मदनी ने शुरू किया था। उर्दू मीडियम के उस मदरसा में काफी निर्धन परिवार के बच्चे पढ़ते हैं। जिनके परिवार वाले हॉस्टल का 1,500 रुपए नहीं दे पाते उन्हें फ्री में वहां रखा जाता है।

वहां पढ़ने वालों को हिंदू, इंग्लिश, मराठी, उर्दू और अरबी सिखाई जाती है। लड़कों के साथ-साथ लड़कियों को भी किसी टीचर की देखरेख में ही कहीं आने-जाने दिया जाता है। क्लास में दोनों तरफ गलियारें बनाए गए हैं ताकि टीचर और मुंह ढंककर बैठी उनके स्टूडेंट्स को एक दूसरे के आमने सामने कभी ना आना पड़े। पुरुष टीचर भी कभी उन लड़िकयों के सामने नहीं आते। वे लोग माइक्रोफोन की मदद से पढ़ाते हैं।

इस वक्त की ताजा खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें

देखिए संबंधित वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App