ताज़ा खबर
 

कांच की छत, तीन तरफ घूमने वाली कुर्सियां और GPS सिस्टम, पहली बार ट्रेन में इस्तेमाल हुए खास विस्टाडोम कोच, जानें कैसा रहा यात्रियों का अनुभव

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने विस्टाडोम कोच में यात्रियों का एक वीडियो शेयर कर लिखा, "पश्चिमी घाटों का मनमोहक दृश्य: पुणे-मुंबई डेक्कन एक्सप्रेस में लगा पहला विस्टाडोम कोच यात्रियों को न भुलाने वाला यात्रा का अनुभव देता है।"

Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र मुंबई | Updated: June 27, 2021 11:17 AM
भारतीय रेलवे ने विस्टाडोम कोच के पहले सफर की कई तस्वीरें शेयर की हैं। (फोटो- Twitter/Piyush Goyal)

भारतीय रेलवे पिछले कई सालों से यात्रियों के लिए ट्रेन यात्रा के अनुभव को यादगार बनाने की कोशिश में जुटा है। इसी कड़ी में रेलवे ने मुंबई-पुणे डेक्कन एक्सप्रेस में पहली बार नई तकनीक और डिजाइन के विस्टाडोम कोच का इस्तेमाल शुरू किया है। शनिवार को इन कोच में पहली बार यात्रियों ने मुंबई से पुणे तक का सफर किया और पश्चिमी घाटों के प्राकृतिक सुंदर नजारों को ट्रेन की कांच की बनी छत और बड़ी-बड़ी खिड़कियों से देखा।

क्या हैं Vistadome कोच?: भारतीय रेलवे की इंटीग्रल कोच फैक्ट्री, चेन्नई की ओर से तैयार किए गए विस्टाडोम कोच पर्यटकों को ध्यान में रखते हुए यूरोपियन स्टाइल में डिजाइन किया गया है। इसमें यात्रियों को बाहर के नजारे दिखाने के लिए कोचों में बड़ी कांच की खिड़कियां और कांच की छत तैयार की गई है। इसके अलावा इसमें ऑब्जर्वेशन लाउंज की सुविधा भी दी गई है। इसके साथ यात्रियों के लिए तीन तरफ घूमने वाली सीट्स भी हैं, जो कि पूरे 180 डिग्री तक रोटेट हो सकती हैं।

लोगों को क्या सुविधाएं दी गईं?: इतना ही नहीं इन कोच में वाई-फाई की सुविधा दी गई है। विकलांग लोगों को ध्यान में रखते हुए रेलवे ने प्रवेश द्वार को दोनों तरफ से खोलने वाला बनाया है. बता दें कोच में ऑटोमैटिक स्लाइडिंग डोर दिए गए हैं। कोच में जीपीएस सिस्टम, सन-इन टाइप एलईडी डेस्टिनेशन बोर्ड, स्टेनलैस स्टील मल्टी-टियर लगेज रैक, रिफ्रेशमेंट के लिए मिनी पैंट्री, माइक्रोबेव अवन, कॉफी मेकर, वॉटर कूलर, रेफ्रिजरेटर और वॉशवेसन की सुविधा भी दी गई है।

रेल मंत्रालय और पीयूष गोयल ने शेयर किए वीडियो: मुंबई-पुणे डेक्कन एक्सप्रेस में फिलहाल एक ही विस्टाडोम कोच लगाया गया, जबकि बाकी तीन एसी चेयर कार थीं, 10 सेकंड क्लास सीटिंग और एक सेकंड क्लास सीटिंग का कोच लगाया गया। रेल मंत्रालय ने विस्टाडोम कोच में सफर करने वाले यात्रियों का एक वीडियो ट्विटर पर भी शेयर किया। इसमें बताया गया कि पहले दिन विस्टाडोम कोच पूरी तरह भरा रहा। यात्रियों ने नदियों, घाटियों और झरनों का निर्बाध नजारा देखा।

इसके अलावा रेल मंत्री पीयूष गोयल ने भी एक वीडियो शेयर कर लिखा, “पश्चिमी घाटों का मनमोहक दृश्य: चौड़ी खिड़कियां, कांच की छतों के साथ पुणे-मुंबई डेक्कन एक्सप्रेस में लगा पहला विस्टाडोम कोच यात्रियों को न भुलाने वाला यात्रा का अनुभव देता है।” उन्होंने एक अन्य ट्वीट में यात्रियों के अनुभव का वीडियो भी शेयर किया। इसमें उन्होंने लिखा, “प्राकृतिक सुंदरता वाले इस मार्ग पर सफर कर रहे यात्री अपने अनुभव साझा कर रहे हैं। यात्रियों के विश्वस्तरीय अनुभव के लिये रेलवे निरंतर प्रयासरत है।”

Next Stories
1 दिल्ली के पास रहते हुए भी LG से खुद न मिलने पहुंचे टिकैत, युद्धवीर सिंह मिलने पहुंचे, पर न हो सकी मुलाकात
2 एके शर्मा हैं ‘अजातशत्रु’, 20 साल से मोदी के बेहद भरोसेमंद, निवेश लाने को कभी गए थे विदेश
3 भारत को जनसंख्या बढ़ाने की ज़रूरत, वरना बढ़ेगी मुसीबत- अर्थशास्त्री ने आंकड़े बता दो बच्चों का प्रतिबंध लगाने को बताया गलत
ये पढ़ा क्या?
X