ताज़ा खबर
 

यूट्यूब पर अश्लील प्रैंक वीडियो डाल कमाए 2 करोड़, मुंबई पुलिस ने दर्ज किया केस

मुंबई पुलिस ने मामले की जानकारी देते हुए कहा कि कुछ पीड़ित महिलाओं ने शिकायत की थी कि आरोपी प्रैंक करने की बात कहकर बुलाते थे और वीडियो में उनके साथ अश्लील हरकत करते थे।

mumbai police , prank , youtubeप्रैंक के नाम पर अश्लील वीडियो बनाने वाले रैकेट की जानकारी देते मुंबई पुलिस के अधिकारी (फोटो – एएनआई)

मुंबई पुलिस ने प्रैंक के नाम पर अश्लील वीडियो बनाने और उसको यूट्यूब पर अपलोड कर करोड़ों रुपये कमाने वाले रैकेट का भंडाफोड़ किया है। मुंबई पुलिस ने अश्लील वीडियो बनाने के मामले में 3 लोगों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार किये गए सभी आरोपी फेसबुक और यूट्यूब पर अपना चैनल चला रहे थे। मुंबई पुलिस का आरोप है कि इन लोगों ने कोरोनाकाल में करीब 17 यूट्यूब चैनल बनाये थे और उसपर 300 से ज्यादा अश्लील वीडियो डाले थे।

मुंबई पुलिस ने मामले की जानकारी देते हुए कहा कि कुछ पीड़ित महिलाओं ने शिकायत की थी कि आरोपी प्रैंक करने की बात कहकर बुलाते थे और वीडियो में उनके साथ अश्लील हरकत करते थे। आरोपियों ने 17 यूट्यूब चैनल की मदद से करीब दो करोड़ रूपये भी कमाए। गिरफ्तार किए गए तीनों आरोपियों में से एक का नाम मुकेश गुप्ता है जो ठाणे में कोचिंग चलाता है। एक अन्य आरोपी का नाम जीतू गुप्ता जो बीएचएमएस के सेकंड ईयर में है। वहीं तीसरे आरोपी का नाम नटखट प्रिंस जो है बीएमएम के सेकंड ईयर में है। 

पुलिस ने केस दर्ज करने के बाद बताया कि मुंबई के सार्वजनिक जगहों पर 5-10 मिनट के प्रैंक वीडियो की शूटिंग की जाती है। इसमें गलत तरीके से लड़की के प्राइवेट पार्ट को टच किया जाता है। साथ ही पुलिस ने कहा कि आरोपियों के सभी 17 यूट्यूब चैनल और कुछ फेसबुक पेज को बंद करने के लिए साइबर क्राइम पुलिस स्टेशन ने संबंधित एजेंसी को कहा है। 

कहा जा रहा है कि इस मामले में मुख्य आरोपी साल 2008 में कक्षा 10 का टॉपर था। हालाँकि वह अभी ट्यूशन पढ़ाता है। आरोपी नाबालिग लड़कियों को प्रैंक में शामिल होने की बात कहकर बुलाता था और बाद में उनसे अश्लील वीडियो बनाता था। पुलिस को शक है कि कई नाबालिग लड़कियों ने पॉकेटमनी के लिए भी प्रैंक वीडियो में काम किया है। पुलिस के मुताबिक ये लोग योजनाबद्ध तरीके से काम किया करते थे। ये लोग फिल्म जगत से जुड़े व्यक्तियों को भी बुलाते थे और उनसे प्रैंक करवाते थे।

पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ पॉक्सो एक्ट, आईटी एक्ट और आईपीसी के तहत मामला दर्ज किया है। इसके अलावा जॉइंट कमिश्नर क्राइम ब्रांच मिलिंद भारांबे ने अपील की है कि पैसे के लिए ऐसे वीडियो बनाने का मामला अगर माता पिता को पता चलता है तो उसे रोके और अगर कोई मामला सामने आया है तो उसे साइबर पुलिस को बताए।

Next Stories
1 बंगाल चुनावः बोले PK- 2 मई को याद दिला देना मेरा पुराना ट्वीट; जानें- क्या है पूरा माजरा?
2 Samsung ला रहा है नया स्ट्रांग स्मार्टफोन, कई बार गिरने के बाद भी नहीं टूटेगा
3 यूपीः SSP बोले- खाकी की आड़ में कोतवाली को बनाया था वसूली का अड्डा, रेड के बाद कोतवाल सस्पेंड
आज का राशिफल
X