ताज़ा खबर
 

गुजराती हैं मुकेश अंबानी पर दक्षिण भारतीय व्यंजन है पसंद, तनाव ‘दूर करने को’ पढ़ते हैं किताबें

नेता बनने के बारे में कभी सोचा? अंबानी ने जवाब दिया था- नहीं। ये मेरे लिए नहीं है। शिक्षा, जो मेरे दिल के करीब है। हम कैसे शिक्षा व्यवस्था को बदल कर सुधार सकते हैं। मैं उस पर जरूर काम करना चाहूंगा। साथ ही भारतीय युवाओं को भी सेवाएं मुहैया करना चाहूंगा।

पंजाब में एक कार्यक्रम के दौरान RIL चेयरमैन मुकेश अंबानी। (एक्सप्रेस आर्काइव फोटोः जसबीर मल्ही)

महाराष्ट्र के मुंबई में रहने वाले RIL चेयरमैन मुकेश अंबानी वैसे तो गुजराती हैं, पर उन्हें दक्षिण भारतीय व्यंजन खाने में बेहद पसंद है। इडली सांभर उनका फेवरेट है और वह उसे बड़े चाव से खाते हैं, जबकि तनाव दूर करने के लिए वह किताबें पढ़ते हैं।

अंबानी ने ये बातें 2017 में एक इंटरव्यू के दौरान टीवी पत्रकार राजदीप सरदेसाई से कहीं थीं। फेसबुक लाइव के रूप में हुई बातचीत में उन्होंने कई मसलों पर खुलकर अपनी राय रखी थी। यह पूछे जाने पर कि ऊर्जा कहां से मिलती है? अंबानी ने कहा था, “मेरे बच्चों, उनके दोस्तों और रिलायंस कंपनी में 30 साल से कम के लोगों से।” नेता बनने के बारे में कभी सोचा? अंबानी ने जवाब दिया था- नहीं। ये मेरे लिए नहीं है। शिक्षा, जो मेरे दिल के करीब है। हम कैसे शिक्षा व्यवस्था को बदल कर सुधार सकते हैं। मैं उस पर जरूर काम करना चाहूंगा। साथ ही भारतीय युवाओं को भी सेवाएं मुहैया करना चाहूंगा।

खाने में क्या पसंद है? अंबानी ने बताया था- हमारा फेवरेट फूड साउथ इंडियन है…इडली सांभर। मुंबई में मैसूर कैफे मेरी पसंदीदा खाने-पीने की जगह है। मैं जब केमिकल इंजीनियरिंग पढ़ा था, तब से लेकर आज तक वह मेरी पसंदीदा जगह है। हम वहां जाते भी हैं और मैसूर कैफे वाले लोग हमारे पास आते भी हैं।

इतनी तनाव भरी जिंदगी में रिलैक्स (आराम) कैसे करते हैं? इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा- मैं बहुत पढ़ता हूं। दोस्तों के साथ समय बिताता हूं। देखता भी हूं। डिजिटल जमाना हो गया है, तो मुझे चीजें देखने से पता लगता रहता है कि दुनिया में क्या चल रहा है।

Next Stories
1 कोरोनाः छत्तीसगढ़ में कचरा गाड़ी में ढोकर लाए जा रही लाशें, अफसर बोले- ये CMO, नगर पंचायत की व्यवस्था में है
2 कोरोना से महामंडलेश्वर की मौत के बाद निरंजनी अखाड़ा कुंभ से बाहर, उत्तराखंड सरकार का फ़रमान- कुंभ को छोड़ कहीं नहीं जुटेंगे 200 से ज़्यादा लोग
3 कोरोना संकट पर बोले नितिन गडकरी- स्थिति भयावह, 15 दिन या एक महीने में क्या होगा, कोई कह नहीं सकता
ये पढ़ा क्या?
X