ताज़ा खबर
 

मुद्रा योजना: बांटे गए लोन के मुकाबले महज 10 प्रतिशत ही पैदा हुईं अतिरिक्त नौकरियां!

मुद्रा योजना के तहत कुल 5.71 लाख करोड़ का लोन मुद्रा योजना की शिशु, किशोर और तरुण योजना के तहत बांटा गया है। इसमें से 12.27 करोड़ के लोन पहले तीन सालों में बांटे गए।

mudra loan yojanaमुद्रा लोन योजना का सर्वे कर श्रम मंत्रालय ने पेश किए आंकड़ें।

केन्द्र सरकार अपनी महत्वकांक्षी मुद्रा योजना को देश में एन्टरप्रेन्योरशिप को बढ़ावा देने और रोजगार देने के मामले में काफी अहम मानती है। हालांकि श्रम मंत्रालय द्वारा किए गए एक हालिया सर्वे में खुलासा हुआ है कि बांटे गए लोन के मुकाबले देश में मुद्रा योजना से महज 10 प्रतिशत नौकरियां ही पैदा हो सकी हैं। बता दें कि यह रिपोर्ट अभी तक सार्वजनिक नहीं हुई है। रिपोर्ट के अनुसार मुद्रा योजना के प्रत्येक पांच लाभार्थियों में से सिर्फ एक ने ही लोन की रकम से नया बिजनेस शुरू किया है। बाकी लाभार्थियों ने लोन की रकम को अपने पहले से ही शुरू किए गए बिजनेस को बढ़ाने में खर्च किया है।

द इंडियन एक्सप्रेस ने श्रम मंत्रालय की रिपोर्ट का अध्ययन किया है। जिसमें पता चला है कि इस सर्वे का नाम ‘प्रधानमंत्री मुद्रा योजना सर्वे’ दिया गया है। श्रम मंत्रालय के अन्तर्गत आने वाले वाले लेबर ब्यूरो ने यह सर्वे किया है। सर्वे के अनुसार, अप्रैल-2015 से लेकर दिसंबर 2017 के बीच 1.12 करोड़ अतिरिक्त नौकरियां पैदा हुई। जिसमें से 51.06 लाख नौकरियां स्वरोजगार या गैर-भुगतान परिजनों से संबंधित हैं। वहीं 60.94 लाख सैलरी कर्मचारी हैं। इस तरह 33 माह के दौरान जितना लोन मुद्रा योजना के तहत बांटा गया, उसके मुकाबले महज 10% नौकरियां उत्पन्न हुई।

सर्वे की ड्राफ्ट रिपोर्ट 27 मार्च, 2019 को तैयार की गई। सर्वे में बताया गया है कि अप्रैल-नवंबर 2018 के दौरान 97,000 लोगों को मुद्रा लोन योजना का लाभ मिला।

मुद्रा योजना के तहत कुल 5.71 लाख करोड़ का लोन मुद्रा योजना की शिशु, किशोर और तरुण योजना के तहत बांटा गया है। इसमें से 12.27 करोड़ के लोन पहले तीन सालों में बांटे गए। बांटे गए लोन की औसत रकम 46,536 रही।

साल 2017-18 के दौरान बांटे गए लोन में से शिशु लोन (50,000 तक का लोन) का हिस्सा 42 प्रतिशत है। वहीं किशोर लोन (50,000 से 5 लाख रुपए तक) का हिस्सा 34 प्रतिशत है। तरुण लोन (पांच लाख से लेकर 10 लाख तक का लोन) की हिस्सेदारी 24 प्रतिशत रही।

वहीं उत्पन्न हुई नौकरियों में से 66 प्रतिशत नई नौकरियां शिशु लोन से ही पैदा हुई हैं। वहीं किशोर लोन ने 18.85 प्रतिशत 18.85% लोगों को नौकरियां दी हैं। तरुण लोन से 15.51% लोगों को रोजगार मिला है।

अतिरिक्त कृषि क्षेत्र में 22.77 लाख नौकरियां पैदा हुई हैं। वहीं मैन्यूफैक्चरिंग सेक्टर से इस दौरान सिर्फ 13.10 लाख ही नई नौकरियां पैदा हुई हैं।

 

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 प्रधानमंत्री नाराज होंगे या खुश, इसकी चिंता न कर बोलने वाले नेताओं की जरूरत: मुरली मनोहर जोशी
2 अयोध्या मामला: राजीव धवन को धमकी देने वालों को नोटिस
3 कांग्रेस नेता शिवकुमार को ईडी ने गिरफ्तार किया
ये पढ़ा क्या?
X