ताज़ा खबर
 

संसद में प्रज्ञा ठाकुर ने उठाया जेल में मेडिकल सुविधाओं की कमी का मामला, बताया कैदियों की पिटाई और जेल का अपना अनुभव

सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने कहा, 'जब मैं जेल में थी तो मैंने देखा था वहां बहुत बुरी स्थिति थी और आज यह बदतर हो गई है। वहां जरूरत पड़ने पर डॉक्टर उपलब्ध नहीं है। जेल में 3000 पुरुष कैदी और करीब 150 महिला कैदी और 20-25 बच्चे हैं।'

MP, Bhopal, Pragya Singh Thakur, doctors and nurses, state capital jail, 2008 Malegaon terror blast, medical staff, medical attention, india news, Hindi news, news in Hindi, latest news, today news in Hindiसाध्वी ने जेल में कैदियों की पिटाई का मुद्दा भी सदन के समक्ष रखा। (फोटोः वीडियो स्क्रीनशॉट

भोपाल से नवनिर्वाचित सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने भोपाल जेल में मेडिकल सुविधाओं की कमी का मामला उठाया। साध्वी ने कहा की राज्य की भोपाल जेल में ना तो डॉक्टर है और ना ही कोई नर्स। उन्होंने जल्द से जल्द यहां आवश्यक मेडिकल सुविधाएं उपलब्ध कराने की मांग की।

प्रज्ञा सिंह ठाकुर 2008 के मालेगांव धमाके के मामले में मुकदमे का सामना कर रही हैं। उन्होंने कहा, ‘ जेल में 3000 पुरुष कैदी और करीब 150 महिला कैदी और 20-25 बच्चे हैं। इन लोगों को जरूरत पड़ने पर मेडिकल स्टाफ उपलब्ध नहीं।’ प्रज्ञा ठाकुर ने जेल में कैदियों की पिटाई और जेल के अपने अनुभव के बारे में भी बताया।

सांसद ने कहा, ‘जब मैं जेल में थी तो मैंने देखा था वहां बहुत बुरी स्थिति थी और आज यह बदतर हो गई है। वहां जरूरत पड़ने पर डॉक्टर उपलब्ध नहीं है। यदि कोई अचानक बीमार पड़ जाए तो डॉक्टर की कमी के कारण तुरंत मेडिकल सुविधाएं नहीं मिलने पर स्थिति बहुत बिगड़ सकती है।’ उन्होंने जेल में बंद बच्चों को दिए जाने वाले खाने के मुद्दे को भी उठाया।

उन्होंने कहा कि बच्चों को मिलने वाला खान पोषण से भरपूर नहीं है। सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने आगे जेल में कानून और व्यवस्था के मुद्दे पर भी अपनी बात रखी। साध्वी ने दावा किया कि जेल में लाए जाने पर कैदियों को पीटा जाता है। मालूम हो कि प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने इस बार लोकसभा चुनाव में मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के महासचिव दिग्विजय सिंह को हराया था। प्रतिष्ठा की इस लड़ाई में दिग्विजय को 3.64 लाख मतों से हार का सामना करना पड़ा था।

भोपाल में कांग्रेस को विधानसभा चुनाव में जीत के बार लोकसभा चुनाव में बुरी तरह से हार का सामना करना पड़ा था। पार्टी यहां लोकसभा की 29 सीटों में महज 1 ही सीट जीत पाई थी। जबकि भाजपा के खाते में 28 सीटें गई थीं। कांग्रेस के लिए राज्य की एकमात्र सीट छिंदवाड़ा पर मुख्यमंत्री कमल नाथ के बेटे नकुल नाथ ने चुनाव जीता था।

इससे पहले साध्वी प्रज्ञा ने संसद में उपस्थित होने के लिए मालेगांव बम धमाकों में नियमित रूप से पेश होने की छूट मांगी थी। उन्होंने इस संबंध में अदालत में याचिका दायर की थी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 पठानकोट में तैनात होगा सबसे खतरनाक लड़ाकू हेलिकॉप्टर अपाचे, हिंडन एअरबेस लाने की तैयारियां पूरी
2 केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से कहा, शरणार्थी राजधानी नहीं हो सकता भारत
3 पोखरण रेंज में गाइडेड मिसाइल ‘नाग’ का सफल परीक्षण, चार किलोमीटर दूर खड़े टैंक कर सकती है तबाह
IPL 2020 LIVE
X