ताज़ा खबर
 

सुरेश प्रभु ने रेलवे बोर्ड के सभी अफसरों को जबरन पूरे दिन सुनवाया शिव खेड़ा का भाषण, जोनल मुख्यालयों में करवाई लाइव स्ट्रीमिंग

शिव खेड़ा ने कहा कि अगर सुरेश प्रभु की तरह और नेता, मंत्री होते तो देश के हालात आज कुछ और होते।

रेल मंत्री सुरेश प्रभाकर प्रभु का गुलदस्ता देकर स्वागत करते रेलवे के एक अधिकारी। (फोटो-PTI)

आम बजट के बाद रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने शुक्रवार को रेलवे बोर्ड के सभी अधिकारियों को जबरन शिव खेड़ा का भाषण सुनवाया। रेलवे बोर्ड के कॉन्फ्रेन्स हॉल में आयोजित कार्यक्रम में रेलवे बोर्ड के सभी सदस्यों समेत तमाम अधिकारी मौजूद थे। शिव खेडा ने उन्हें दिन भर मोटिवेशनल स्पीच दिया कि कैसे विभाग को यानी रेलवे को ट्रांसफॉर्म किया जा सकता है। हालांकि, कार्यक्रम का उद्घाटन करने के बाद रेल मंत्री सुरेश प्रभु वहां से चले गए लेकिन शिव खेड़ा ने उनकी गैर मौजूदगी में ही रेल मंत्री की तारीफों के पुल बांधते नजर आए।

शिव खेड़ा ने कहा कि अगर सुरेश प्रभु की तरह और नेता, मंत्री होते तो देश के हालात आज कुछ और होते। रेल मंत्रालय ने शिव खेड़ा के मोटिवेशनल स्पीच की एक सीरीज लॉन्च की है ताकि रेलवे के अधिकांश लोगों का उत्साहवर्द्धन हो सके। अब शिव खेड़ा रेलवे के करीब हर जोन में रेल कर्मचारियों और अधिकारियों को ट्रांसफॉर्मिंग इंडियन रेलवे पर मोटिवेशनल स्पीच देंगे। शुक्रवार को भी खेड़ा की स्पीच के दौरान रेलवे के तमाम जोनल मुख्यालयों में लाइव स्ट्रीमिंग कराई गई थी। वहां सभी अधिकारियों को इसमें अनिवार्य रूप से शामिल होने के लिए निर्देश भेजे गए थे।

गौरतलब है कि शिव खेड़ा एक उद्यमी, बिजनेस सलाहकार और प्रेरक प्रवक्ता यानी मोटिवेशनल स्पीकर हैं। इसके साथ ही वो एक लेखक भी हैं। उन्होंने अब तक 16 किताबें लिखी हैं। लोग उन्हें उनकी सेल्फ हेल्प किताब ‘यू कैन विन’ से ज्यादा जानते हैं। मजाक में ‘बीमा एजेंटों का धर्मग्रंथ’ कही जाने वाली ‘यू कैन विन’ का अनुवाद 16 भाषाओं में हो चुका है। ‘आजादी से जिएं’ शिव खेड़ा की 2004 में प्रकाशित किताब ‘फ्रीडम इज नॉट फ्री’ का हिंदी अनुवाद है और संयोग से इसमें भी इसमें कुल जमा 16 चैप्टर हैं।

वीडियो देखिए- आयकर विभाग ने चुनाव आयोग से आप का पार्टी का दर्जा रद्द करने को कहा; फर्जी ऑडिट रिपोर्ट फाइल करने का आरोप

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App