ताज़ा खबर
 

खुलासा: पंजाब के डिप्टी सीएम की बस में छेड़छाड़, धक्का देने से हुई लड़की की मौत

पंजाब में बीते दिन एक दिल दहला देने वाली घटना ने अंजाम दिया। चलती बस में छेड़छाड़ से परेशान होकर एक नाबालिग लड़की ने अपनी जान दे दी तो वहीं उसकी मां गंभीर रूप से घायल है।
इस तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

चलती बस में कथित तौर पर छेड़छाड़ करने और धक्का मारकर बस से नीचे गिराए जाने के कारण एक किशोरी की मौत हो गयी और उसकी मां गंभीर रूप से घायल हो गयी।

पुलिस ने पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल के परिवार के मालिकाना हक वाली कथित कंपनी से जुड़ी बस के कंडक्टर और खलासी को मोगा-कोटकपुरा रोड पर गिल गांव के निकट कल शाम हुयी खौफनाक घटना के मामले में आज गिरफ्तार कर लिया।

मोगा के एसपी (जासूसी) एच एस पन्नू ने पीटीआई-भाषा को बताया कि घायल महिला ने अपने बयान में बताया कि वह और उनकी 16 वर्षीय बेटी से बस में कंडक्टर, खलासी और एक और अज्ञात व्यक्ति ने कथित तौर पर छेड़छाड़ की और परेशान किया।

उन्होंने कहा, ‘‘आरोपियों ने चलती बस में उन्हें धक्का देकर बाहर फेंक दिया।’’ इससे पहले पुलिस ने कहा कि छेड़छाड़ करने वालों से बचने के लिए दोनों बस से कूद गयी थीं।

विपक्षी दलों ने बादल परिवार पर निशाना साधा है। कांग्रेस ने यह कहते हुए न्यायिक जांच की मांग की है कि स्थानीय प्राधिकार राजनीतिक जुड़ाव के कारण कंपनी के कर्मचारियों के खिलाफ काम नहीं कर पाएगा।

मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल ने घटना को ‘बेहद दुखद’ बताया और दोषियों के खिलाफ त्वरित कार्रवाई करने का वादा किया। साथ ही जोर देकर कहा कि कंपनी के मामलों में उनका कोई हित नहीं है और वह कभी उसके कार्यालय भी नहीं गए हैं।

लोकसभा में मामला उठाते हुए आम आदमी पार्टी और कांग्रेस सदस्यों ने हंगामा किया, जिसके बाद कुछ समय के लिए कार्यवाही बाधित हुयी।

पन्नू ने बताया कि बस को जब्त कर लिया गया है और आईपीसी की धाराओं 302 (हत्या), 307 (हत्या का प्रयास), 354 (महिला की गरिमा भंग करने के मकसद से हमला), 34 (समान मंशा) के तहत मामला दर्ज किया गया है।

मोगा के एसएसपी जीतेंद्र सिंह खैरा ने बताया, ‘‘बस कंडक्टर सुखविंदर और खलासी गुरदीप को गिरफ्तार कर लिया गया है। हम मामले में तीसरे आरोपी को भी पकड़ने की कोशिश कर रहे हैं।’’

पुलिस ने दावा किया कि महिला ने बस ड्राइवर के खिलाफ कोई आरोप नहीं लगाया है।

उन्होंने कहा, ‘‘बस ड्राइवर को जब पता चला तो उसने बस सड़क के एक तरफ रोक दी। पहले वह डर गया कि लोग उसकी पिटाई न कर दे लेकिन बाद में उसने जांचकर्ताओं की मदद की और अपना बयान दर्ज कराया।’’

ड्राइवर भी आरोपियों के साथ मिला हुआ था, इन आरोपों पर पन्नू ने कहा, ‘‘वह आरोपियों की हमारी सूची में नहीं है।’’
लड़की की 38 वर्षीय मां को मोगा के सरकारी अस्पताल में पहुंचाया गया।

उन्होंने बताया कि मां और बेटी मोगा से बागापुराना एक बस में जा रही थीं जो लगभग खाली थी। बस के खलासी ने मां से छेड़छाड़ करनी शुरू कर दी और मना किये जाने पर भी वह अपनी हरकत से बाज नहीं आ रहा था। इसी बीच कुछ और आरोपी आ गए और इसके बाद तीनों ने कथित तौर पर उसकी बेटी से भी छेड़छाड़ की।

महिला का 10 वर्षीय बेटा भी घटना के वक्त उनके साथ था। वह बस में सीट पर ही बैठा रहा और बाद में पुलिस ने उसे परिवार को सौंप दिया।

महिला और उसकी बेटी को घटना के बाद वहां जमा हुए लोगो ने अस्पताल पहुंचाया।

 

यह भी पढ़ेंरोहतक छेड़छाड़ मामला: लड़कियों के बहादुरी सम्मान पर रोक, सीएम खट्टर ने दिए जांच के आदेश

यह क्या बोल गए तृणमूल कांग्रेस मंत्री: ‘माकपा महिलाएं अपने कपड़े खुद फाड़ लेती हैं’ 

 

इनपुट भाषा से

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.