ताज़ा खबर
 

NRC: पैसों के लिए वेश्यालयों में बेच दी गईं, अधर में इन 200 सेक्स वर्करों की जिंदगी

असम के सिचलर में डाउनटाउन नाम से एक रेडलाइट एरिया है। यहां रहने वालीं 200 से ज्यादा सेक्स वर्करों के नाम एनआरसी लिस्ट में शामिल नहीं हो सके हैं।

Author Published on: September 17, 2019 2:37 PM
प्रतीकात्मक तस्वीर (इंडियन एक्सप्रेस)

एनआरसी की गाज असम के वैश्यालयों पर भी गिरी है। सिलचर में 200 से अधिक सेक्स वर्कर्स अपना नाम नागरिक रजिस्टर में दर्ज कराने से असफल रही हैं। 13 सितंबर को सरकार ने एनआरसी की फाइनल लिस्ट पब्लिश की थी। जिसमें 3.3 करोड़ लोगों ने अपना नाम दर्ज कराने के लिए आवेदन भेजा था। फाइनल लिस्ट में उन लोगों का नाम था जिन्हें भारत का नागरिक मान लिया गया। नागरिक रजिस्टर में करीब 19 लाख लोग अपना नाम दर्ज कराने में असलफल रहे।

गौरतलब है कि सिलचर के रेड-लाइट इलाका डाउनटाउन में रहने वालीं 200 से अधिक सेक्स वर्करों को भारतीय नागरिक नहीं माना गया है। ‘नॉर्थइस्ट नाउ’ की रिपोर्ट के मुताबिक सेक्स वर्कर इसलिए एनआरसी में अपना नाम दर्ज कराने में असफल रही, क्योंकि उनके परिजनों ने उन्हें अपने खानदानी विरासत से किसी तरह के जुड़ाव से अलग कर दिया। इनमें से अधिकांश का नाम इसलिए भी शामिल नहीं हो पाया, क्योंकि इनके पास अपने आपको भारतीय नागरिक साबित करने वाले दस्तावेज नहीं थे।

‘नॉर्थईस्ट नाउ’ से बातचीत में एक समाजसेवी ने बताया कि यहां आने वाली अधिकांश औरतें मानव तस्करी का परिणाम हैं। इनके पास न तो वोटर-आईडी है और न ही आधार कार्ड (AADHAAR) है। इस दौरान सिचलर में रहने वालीं सेक्स वर्करों को पहचान दिलाने के लिए कई महिला वकील लड़ाई लड़ रही हैं। इनका मानना है कि ये भी समाज का हिस्सा हैं और इन्हें इनके अधिकारों से वंचित नहीं किया जा सकता।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Motor Vehicle Act: हर स्टेट में अलग जुर्माना, जानें आपके राज्य में कानून तोड़ने पर कितना कटेगा चालान
2 गृह मंत्री अमित शाह ने NSG सिक्योरिटी लेने से किया इनकार, CRPF ही देगी सुरक्षा
3 ‘कहीं दीदी का अकाउंट हैक तो नहीं हो गया’, ममता ने सुबह-सुबह पीएम मोदी को टि्वटर पर दी जन्मदिन की बधाई, यूं मजे लेने लगे लोग