ताज़ा खबर
 

मोइन कुरैशी का दिल्ली में फार्महाउस व बीकानेर में किला कुर्क

ईडी ने एक बयान में कहा कि ये संपत्तियां मुखौटा कंपनियों की आड़ में रखी गई थीं, जिनका नियंत्रण कुरैशी द्वारा किया जाता था।

Author Updated: September 18, 2019 12:13 AM
फोटो सोर्स-इंडियन एक्सप्रेस।

मीट कारोबारी मोइन कुरैशी के खिलाफ धनशोधन के मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने कार्रवाई करते हुए उसकी कई संपत्तियां कुर्क की हैं। विवादित मांस निर्यातक मोइन कुरैशी व अन्य के खिलाफ धनशोधन के एक मामले की जांच के तहत दिल्ली में एक फार्महाउस, राजस्थान के बीकानेर में एक पुराना किला समेत देहरादून और गोवा में स्थित अचल संपत्तियां कुर्क की हैं। इन संपत्तियों का मूल्य 9.35 करोड़ रुपए बताया जाता है।

ईडी ने एक बयान में कहा कि ये संपत्तियां मुखौटा कंपनियों की आड़ में रखी गई थीं, जिनका नियंत्रण कुरैशी द्वारा किया जाता था। बयान में कहा गया है कि धनशोधन रोकथाम कानून (पीएमएलए) के तहत कुर्की का एक अस्थाई आदेश जारी किया गया था और संपत्तियों का कुल मूल्य 9.35 करोड़ रुपए है।
ईडी ने कहा, ‘अचल संपत्तियां दिल्ली, राजस्थान, देहरादून और गोवा में है। कुर्क संपत्तियों में दिल्ली के छतरपुर इलाके में स्थित एक फार्महाउस और राजस्थान के बीकानेर जिले में एक पुराना किला शामिल है।’

मोइन कुरैशी की बेटी पर्निया फैशन स्टोर चलाती है। उसकी शादी लंदन स्थित सीए अजीत प्रसाद के बेटे अर्जुन से हुई। बेटी की शादी में एक नामी गायक को गाने के लिए बुलाया गया था। वह 56 लाख की विदेशी मुद्रा के साथ पकड़ा गया था।

यह पैसे किसने दिए, कहां से आए इन सवालों की पड़ताल के बाद कुरैशी आयकर के रडार पर आ गया। इसके बाद जांच में पता चला कि कुरैशी ने दो सौ करोड़ रुपए से ज्यादा की संपत्ति विदेश में जमा की है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 JNUSU Results 2019: कैंपस के ‘योगी’ को मिले सिर्फ 53 वोट, बोले- दिल से नहीं हारा हूं; दम हो तो वाम दल अलग-अलग लड़ें चुनाव
2 शेयर बाजार धड़ाम! फटेहाल हुए निवेशक, दो दिन में गंवा डाले 2.72 लाख करोड़ रुपये
3 JNUSU Results 2019: ‘मैं नहीं मानता, मैं नहीं जानता’ गाने वाले शशिभूषण पांडे भी जीते काउंसलर पद पर, कैंपस के इतिहास के ‘पहले दिव्यांग विजेता’