ताज़ा खबर
 

नीतीश ने संसद में मुसलमानों के लिए ‘सब कोटा’ की वकालत की थी: मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लालू प्रसाद के गृह जिले में महागठबंधन को निशाने पर लेते हुए नीतीश कुमार से सवाल किया कि क्या वह ‘जंगलराज’ के पुराने दिनों को वापस लाना चाहते हैं। साथ ही दलितों, पिछड़ों और अति पिछड़ों के आरक्षण कोटा में से पांच प्रतिशत ‘एक समुदाय’ को देने की साजिश संबंधी अपने […]

Author नई दिल्ली | October 30, 2015 8:30 PM

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लालू प्रसाद के गृह जिले में महागठबंधन को निशाने पर लेते हुए नीतीश कुमार से सवाल किया कि क्या वह ‘जंगलराज’ के पुराने दिनों को वापस लाना चाहते हैं। साथ ही दलितों, पिछड़ों और अति पिछड़ों के आरक्षण कोटा में से पांच प्रतिशत ‘एक समुदाय’ को देने की साजिश संबंधी अपने आरोप को दोहरा कर दावा किया कि खुद नीतीश कुमार ने 2005 में संसद में मुसलमानों के लिए ‘सब कोटा’ की व्यवस्था करने की कथित तौर पर वकालत की थी।

मोदी ने कहा कि पुराने दिन नीतीश कुमार को स्वीकार्य हो सकते हैं, बिहार की जनता को नहीं। मोदी ने यहां चुनावी सभा में कहा, ‘‘नीतीश कुमार ने 24 अगस्त, 2005 को ही अपने इरादे साफ कर दिए थे। लेकिन जब मैंने आरोप लगाया कि वे अनुसूचित जाति, जनजाति, ओबीसी और अति पिछड़ों के आरक्षण कोटा में से पांच प्रतिशत एक समुदाय विशेष को दे देंगे तो वे अपना आपा खो बैठे। भारतीय संविधान के निर्माता भी इसके खिलाफ :धर्म के आधार पर आरक्षण: थे।’’

उन्होंने कहा, ‘‘मेरे पास दस्तावेज हैं कि अगस्त, 2005 को संसद में उन्होंने :नीतीश: क्या कहा था। मैं उन्हें चुनौती देता हूं कि अगर उनमें हिम्मत है तो इसका जवाब दें। वह इतने बड़े झूठ बोलते हैं और घटिया बातों में शामिल होते हैं। यह खेल ज्यादा दिन नहीं चलेगा।

चुनाव के अंतिम चरणों में भाजपा की प्रचार रणनीति को विकास की बजाय जाति और समुदाय आधारित करने को सही ठहराते हुए मोदी ने कहा, ‘‘क्या पिछड़े, अति पिछडे़ और दलित का बेटा विकास की बात नहीं करे। आज कल वे कह रहे हैं कि मोदी ने चुनाव का प्रोफाइल बदल दिया। वे कह रहे हैं कि मोदी पहले विकास की बातें करता था लेकिन अब अपनी अति पिछड़ी जाति की पृष्ठभूमि के बारे में बातें कर रहा है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘क्या सिर्फ आपको विकास की बातें करने का अधिकार है। यह उनका अहंकार है, जिसके चलते वे ऐसी बातें कर रहे हैं। मोदी ने लालू और नीतीश के शासनों के दौरान हुए घोटालों के नाम भी गिनाए।
जारी भाषा जलीस कुमार

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App