ताज़ा खबर
 

12 अध्यायों की विस्तृत रिपोर्ट तैयार की सीएजी ने, रफाल पर कैग की रपट आज संसद में

सीएजी के आला अधिकारियों के मुताबिक, ऐसा पहली बार हुआ है कि रक्षा मंत्रालय की पहल पर सीएजी ने किसी रक्षा सौदे के बारे में अपनी रिपोर्ट तैयार की है। अतीत में रक्षा सौदों की कीमतों के बारे में सीएजी के द्वारा टिप्पणी करने की परंपरा नहीं रही है।

Author February 12, 2019 6:37 AM
राफेल विमान ( फोटो सोर्स: एक्सप्रेस आर्काइव)

राजनीतिक विवाद का केंद्र बने रफाल जेट विमान सौदे पर नियंत्रक व महालेखा परीक्षक (कैग) की रपट को सरकार मंगलवार को संसद में रखेगी। सीएजी ने अपनी रिपोर्ट राष्ट्रपति को भेज दी है। सीएजी ने रफाल पर 12 अध्यायों की विस्तृत रिपोर्ट तैयार की है। कुछ हफ्ते पहले ही रक्षा मंत्रालय ने रफाल पर विस्तृत जवाब और संबंधित रिपोर्ट सीएजी को सौंपी थी, जिसमें खरीद प्रक्रिया की अहम जानकारी के साथ 36 रफाल विमानों की कीमतें भी बताई गई थीं। सीएजी के आला अधिकारियों के मुताबिक, ऐसा पहली बार हुआ है कि रक्षा मंत्रालय की पहल पर सीएजी ने किसी रक्षा सौदे के बारे में अपनी रिपोर्ट तैयार की है। अतीत में रक्षा सौदों की कीमतों के बारे में सीएजी के द्वारा टिप्पणी करने की परंपरा नहीं रही है। इस बार रक्षा मंत्रालय के कहने पर कीमतों के बारे में सीएजी ने अपनी राय व्यक्त की है। सीएजी ने अपनी रिपोर्ट दो खंडों में तैयार की है। एक हिस्से में 10 रक्षा सौदों के बारे में रिपोर्ट है। दूसरे हिस्से में रफाल को लेकर 12 अध्यायों में अपनी टिप्पणियां दर्ज की हैं। सीएजी के अधिकारियों ने कहा कि रक्षा मंत्रालय व वायुसेना ने इसके लिए हर तरह के दस्तावेज मुहैया कराए।

इस रिपोर्ट में ऑफसेट कॉन्ट्रैक्ट का जिक्र नहीं है। सीएजी अलग से अपनी रिपोर्ट तैयार कर रहा है जिसमें सभी आॅफसेट कॉन्ट्रैक्ट का जिक्र है। सीएजी के अधिकारियों के मुताबिक, आॅफसेट सौदों को लेकर रक्षा मंत्रालय के कुछ दस्तावेज हमें मिले हैं और कुछ दस्तावेज हम हासिल करने की प्रक्रिया में हैं। इस कारण आॅफसेट सौदों के बारे में अलग खंड में रिपोर्ट तैयार की जा रही है। प्रस्तावित खंड में इसका जिक्र भी होगा कि रफाल का आॅफसेट सौदा सरकारी क्षेत्र की हिंदुस्तान एअरोनॉटिक्स से लेकर निजी कंपनी को क्यों और किन परिस्थितियों में दिया गया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App