ताज़ा खबर
 

केंद्र ने सीजेआइ, सीईसी के बंगलों की साज-सज्जा पर खर्च होने वाली राशि दोगुनी की

इसी प्रकार मुख्य चुनाव आयुक्त और चुनाव आयुक्तों के सरकारी बंगलों के लिए मंत्रालय ने मौजूदा चार लाख रुपए की सीमा बढ़ाकर आठ लाख रुपए कर दी है। सूत्रों ने कहा कि संशोधित सीमा में फर्नीचर और बिजली के उपकरण शामिल होंगे। केंद्रीय लोक निर्माण विभाग सरकार की सबसे बड़ी निर्माण एजंसी है और यह केंद्र सरकार के घरों, भवनों और अंतरराष्ट्रीय सीमाओं पर बाड़ लगाने तथा उनका रखरखाव करती है।

Ranjan Gogoi, Chief Justice of Indiaभारत के प्रधान न्‍यायाधीश रंजन गोगोई। (File Photo : PTI)

केंद्र सरकार ने प्रधान न्यायाधीश (सीजेआइ), सुप्रीम कोर्ट के अन्य जजोंं, मुख्य चुनाव आयुक्त और अन्य चुनाव आयुक्तों के आधिकारिक बंगलों के साज-सज्जा के लिए मुहैया की जाने वाली राशि में 100 फीसद की वृद्धि की है। एक अधिकारी ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि मौजूदा प्रावधानों के अनुसार प्रधान न्यायाधीश को अपने आधिकारिक आवास के साज-सज्जा के लिए पांच लाख रुपए मिलते हैं, लेकिन अब यह राशि दोगुनी कर दी गई है। उन्होंने कहा कि इस संबंध में संपदा निदेशालय द्वारा हाल ही में केंद्रीय लोक निर्माण विभाग के महानिदेशक प्रभाकर सिंह को सूचना भेजी गई है। दोनों एजंसियां केंद्रीय आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय के तहत आती हैं। एक अन्य अधिकारी ने कहा, सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीशों के आधिकारिक आवास के साज-सज्जा के लिए मौद्रिक सीमा चार लाख रुपए से बढ़ा कर आठ लाख रुपए कर दी गई है।

इसी प्रकार मुख्य चुनाव आयुक्त और चुनाव आयुक्तों के सरकारी बंगलों के लिए मंत्रालय ने मौजूदा चार लाख रुपए की सीमा बढ़ाकर आठ लाख रुपए कर दी है। सूत्रों ने कहा कि संशोधित सीमा में फर्नीचर और बिजली के उपकरण शामिल होंगे। केंद्रीय लोक निर्माण विभाग सरकार की सबसे बड़ी निर्माण एजंसी है और यह केंद्र सरकार के घरों, भवनों और अंतरराष्ट्रीय सीमाओं पर बाड़ लगाने तथा उनका रखरखाव करती है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 टी-20 योजना से आम चुनाव की जमीन तैयार करेगी भाजपा
2 राम मंदिर पर बोले मोहन भागवत, चुनाव से पहले आए फैसला, वर्ना कानून बनाए सरकार
3 कसम खुदा की खाते हैं, मंदिर वहीं बनवाएंगे- राम मंदिर के पक्ष में आईं मुस्लिम महिलाएं
ये पढ़ा क्या?
X