ताज़ा खबर
 

मोदी सरकार के TITP के तहत 2022 तक 3 लाख इंटर्न्स जाने हैं जापान, पर अब तक जा सके हैं महज 54

दो साल बाद, TITP ढांचे के तहत जापान को भेजे गए इंटर्न की कुल संख्या 54 है, जो अगस्त 2019 के अंत तक बढ़कर 59 हो जाएगी। ये जानकारी इस प्रोग्राम को लागू और मॉनिटरिंग कर रही संस्था नेशनल स्किल डवलपमेंट कॉर्पोरेशन (एनएसडीसी) से मिली है।

India-Japan ties,internships,Ministry of Skill Development and Entrepreneurship,TITPप्रतीकात्मक फोटो (सोर्स: इंडियन एक्सप्रेस)

Union skill development ministry, NSDC, skill India: 2017 में केंद्रीय कौशल विकास मंत्रालय ने जापान के साथ मिलकर एक तकनीकी आंतरिक प्रशिक्षण कार्यक्रम (TITP) शुरू किया था। उस समय के मंत्री, धर्मेंद्र प्रधान ने कहा था कि अगले तीन से पांच वर्षों में, लगभग तीन लाख भारतीय युवाओं को जापान में इंटर्नशिप प्रदान की जाएगी, और इनमें से लगभग 50,000 को जापान में ही रोजगार मिल सकता है।

न्यूज़ वेबसाइट दिप्रिंट के मुताबिक दो साल बाद, TITP ढांचे के तहत जापान को भेजे गए इंटर्न की कुल संख्या 54 है, जो अगस्त 2019 के अंत तक बढ़कर 59 हो जाएगी। ये जानकारी इस प्रोग्राम को लागू और मॉनिटरिंग कर रही संस्था नेशनल स्किल डवलपमेंट कॉर्पोरेशन (एनएसडीसी) से मिली है। TITP के तहत 17 युवाओं का पहला जत्था जुलाई और सितंबर 2018 में जापान भेजा गया था। 23 से 27 साल की उम्र के बीच, इन 17 में से 12 इनटर्न दक्षिणी तमिलनाडु के आर्थिक रूप से पिछड़े परिवारों से थे। मंत्रालय की आधिकारिक प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, इंटर्न को प्रति माह 65,000 रुपये की प्रोत्साहन राशि मिली।

अगले बैच में भी 17 युवाओं जनवरी 2019 में जापान भेजा गया था। विशेष रूप से, इनमें से पांच युवाओं को स्वास्थ्य सेवा उद्योग में इंटर्नशिप के लिए भेजा गया था। जापान बुजुर्गों की आबादी में एक विस्फोट देख रहा है और इस मांग को पूरा करने के लिए स्वास्थ्य सेवा उद्योग ने तेजी से विस्तार किया है। इस बैच में इंटर्न को जापान में मानक दरों के अनुसार प्रोत्साहन का भुगतान किया जा रहा है – एनएसडीसी का कहना है कि इस क्षेत्र में वेतन लगभग 1 लाख रुपये प्रति माह तक जा सकता है।

एनएसडीसी के एक अधिकारी ने दिप्रिंट को बताया “हमारे साथ कई संगठनइन युवाओं को जापानी भाषा सिखाने का काम कर रहीं हैं। इन युवाओं को छह से 18 महीनों तक ट्रेनिंग मिलेगी। इस दौरान इन उन्हें वहां की भाषा, कल्चर और व्यवहारिक तौर तरीके सिखाए जाएंगे। मंत्रालय के अनुसार, फिलहाल, लगभग 500 युवाओं को इस तरह के प्री-इंटर्नशिप ट्रेनिंग दी जा रही है। अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया “इस तरह की तैयारी करना जरूरी है ताकि जापान में इन इंटेर्न्स को किसी तरह की कठिनाई का सामना न करना पड़े। हम समय-समय पर उनकी प्रतिक्रिया भी लेते हैं।”

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 कश्मीरी मुसीबत में हैं, इसलिए अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में नहीं होगा ईद-मिलन- असोसिएशन का फैसला
2 यूपी: घर से अलग थाली लाते हैं ऊंची जातियों के बच्चे, मिड-डे मिल साथ खाने से करते हैं परहेज
3 मोदी सरकार के मंत्री बोले- हमारे पास गुजरात का ‘निरमा पाउडर’ है, बीजेपी में शामिल होने वाले नेताओं की पहले होती है धुलाई
ये पढ़ा क्या?
X